बिजली बिल को कम करने के लिए आपको करना होगा ये काम, यहाँ लीजिये पूरी जानकारी

भोपाल. गर्मी के मौसम में बिल ज्यादा आने के कारण आप डिजिटल मीटरों या बिजली कंपनी को कोसते हैं। गर्मी के कारण ज्यादा उपकरणों के उपयोग से बिजली का बिल ज्यादा आता है। यदि आप थोड़ी सी सावधानी बरतें तो बिल ज्यादा आने की आपकी चिंता बढ़ेगी नहीं। आप चाहें तो अपने बढ़ते बिल को नियंत्रण में रख सकते हैं। बस आपको अपनी आदतों में बदलाव करना होगा।

एक आंकलन के अनुसार अधिकांश शहरवासी रिमोट चलित विद्युत उपकरणों को ‘‘स्टैंडबाय’’ मोड पर छोड़़ देते हैं, जिससे उपकरण तो बंद हो जाते हैं परन्तु इनमें सतत् विद्युत प्रवाहित होती रहती है। एक सर्वे के अनुसार 70 फीसदी लोग टीवी रिमोट से ही ऑन-ऑफ करते हैं बजाय मेन स्विच के जिससे टीवी ऑफ होने के बावजूद भी पावर सप्लाई चालू रही है। इससे 21 इंच के टीवी में 15 वाट का करंट निरन्तर प्रवाहित होता रहता है एवं आपके मीटर को आगे बढ़ाता रहता है, जिसके कारण 70 फीसदी लोगों को हर महीने लगभग 100 रूपये और हर साल 1200 रूपये का अतिरिक्त भार सहना पड़ता है।

हर महीने लगभग 75 रूपये की चपत: म्यूजिक सिस्टम, टीवी, एसी, कम्प्यूटर आदि स्टैंडबाय मोड पर 5 से 15 वॉट तक बिजली की खपत करते हैं। अगर महीने भर भी टीवी बंद रहे तब भी 15 वॉट के हिसाब से एक दिन में 0.36 यूनिट व 30 दिन में 10.8 यूनिट बिजली खर्च होती है।

कम्प्यूटर :कम्यूटर के मॉनिटर एवं कॉपीअर्स को स्लीप मोड में रखने से लगभग 40 प्रतिशत ऊर्जा की बचत होती है। एलईडी मॉनिटर का प्रयोग करें, यह पारंपरिक सीआरटी मॉनिटर की तुलना में कम ऊर्जा खर्च करता है। यदि कम्प्यूटर को चालू रखना आवश्यक हो तो मॉनिटर अवश्य बंद रखें, जो कि कुल ऊर्जा का 50 प्रतिशत से अधिक खर्च करता है।

एलईडी बल्ब: वर्तमान में एलईडी बल्ब ऊर्जा बचत हेतु अतिउत्तम विकल्प है, इनके उपयोग से हम बिजली की बचत कर सकते हैं। एलईडी बल्ब बार-बार चालू-बंद करने से उनकी उम्र पर असर नहीं पड़ता है, जबकि साधारण बल्ब जल्दी ही फ्यूज हो जाता है। एक 40 वाट के साधारण बल्ब के प्रकाश के बराबर के प्रकाश के लिए 4 से 5 वाट क्षमता के एलईडी बल्ब की आवश्यकता होती है।

Back to top button
E-Paper