मासूम बच्चा अगर घर में लगाए झाड़ू, तो कुछ ऐसा होने वाला है आपके साथ !

घर में साफ़ सफाई का विशेष महत्व रहता है. झाड़ू अधिकतर घर की महिलाएं ही लगाती है लेकिन कई बार आपने देखा है कि घर के छोटे बच्चे भी झाड़ू लगाना शुरू कर देते है इस बात को हम अनदेखा कर देते है लेकिन क्या आप जानते है कि घर में अगर कोई छोटा बच्चा झाड़ू लगाता है तो इसके पीछे कुछ वजह होती है.

Loading...

अगर घर का छोटा बच्चा झाड़ू लें और उसे लगाने लगे तो समझ जाए कि आपके घर कोई मेहमान आने वाला है. घर में बच्चो का झाड़ू लगाना आपके लिए शुभ होता है. इसका मतलब होता है कि आपके घर में कोई धन का आगमन होने वाला है.

इसके अलावा भी कुछ और बाते होती है झाड़ू से जुडी हुई.

कई बार जब आप किसी घर या दूकान को खरीदने के लिए जाते है तो उसके बाद आप उसकी सफाई करने लगते है अगर इस बीच आपको वहां पर कोई म री हुई छिपकली दिखाई देती है तो आपको उस घर या कमरे को नही खरीदना चाहिए, क्योंकि ये आपके लिए अप शगुन होता है. ऐसे घर में अगर आप रहने लग जाते है तो उस घर में हमेशा दुःख का साया बना रहता है उस घर में कभी बरकत नही होती है.

अगर आपने उस घर के पैसे दे दिए है और आपको उसमे रहना ही है तो आपको उसमे जाने से पहले वहां पर पूजा पाठ करवाना चाहिए. सबसे जरुरी बात जो है वह है झाड़ू को लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है क्योंकि जिस घर में साफ़ सफाई होती है वहां पर ही माँ लक्ष्मी का वास होता है. अगर आप झाड़ू पर पैर लगाते है तो ये आपके लिए अशुभ होता है इसके अलावा झाड़ू को लांघना भी अशुभ होता है. इन बातो का आपको हमेशा ध्यान रखना चाहिए. ये बाते अगर आप ध्यान में रखते है तो आपके घर में किसी भी तरह की कोई परेशानी नही होगी.

झाड़ू हर घर में लगाई जाती है लेकिन इसे लगाने का भी एक सही समय होता है. साफ़ सफाई सुबह सुबह की जाती है लेकिन कुछ लोग शाम को झाड़ू पोचा करना शुरू कर देते है जोकि बिलकुल गलत है. शाम को कभी भी झाड़ू नही लगाना चाहिए. शाम को अगर आप झाड़ू लगाते है तो इससे धन की देवी लक्ष्मी नाराज होती है.

जिस घर में शाम को झाड़ू लगाया जाता है उस घर के दरवाजे से ही माँ लक्ष्मी वापिस चली जाती है. ऐसे घर में हमेशा दरिद्रता का वास होता है और धन की तंगी रहती है. प्राचीन काल से ही सुबह के समय ही झाड़ू देने की प्रथा आज तक चली आ रही है लेकिन कुछ मुर्ख लोग शाम के समय झाड़ू देते है और अपने घर की कंगाली का खुद ही कारण बनते है.

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker