“टीबी-हारेगा-देश जीतेगा’’ अभियान के तहत घर घर जाकर 154 स्वास्थ्य टीमों ने खोजे टीवी रोगी


 
– जनपद में 4 लाख 1 हजार 613 रोगियों की अब तक हो चुकी स्क्रीनिंग

मैनपुरी – टीबी हारेगा- देश जीतेगा अभियान के तहत मैनपुरी जनपद भर में 154 टीमें घर घर जाकर क्षय रोगियों खोजने का काम कर रहीं हैं। जनपद भर में 4 लाख लोगों तक पहुँचने के टारगेट के सापेक्ष 11 जनवरी तक 4 लाख 1 हजार 613 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग की गई है। जिनकी सूची पॉर्टल पर भी अपलोड कर दी गई है। कोरोना संक्रमण काल के दौरान जांच से छूटे मरीजों को खोजने के लिए क्षय रोग विभाग ने घर घर पहुँचकर टीवी मरीज खोजने का अभियान शुरु किया। यह अभियान 2 जनवरी से 12 जनवरी तक चलाया गया।

जिसमे जिले में 11 जनवरी तक 4 लाख 1 हजार 613 लोगों की स्क्रीनिंग करायी गई। वहीं इन लोगों में से 1 हजार 40 संभावित लोगों के सेम्पल लेकर जांच की गई। इनमें से 56 लोग पॉजिटिव भी पाए गए हैं। जिनका इलाज विभाग द्वारा शुरू कर दिया गया है। इस अभियान में 154 टीमें लगायी गयी हैं। हर टीम में 3 मेंबर्स में 1 आशा, 1 आंगनवाड़ी और 1 डॉट्स प्रोवाइडर हैं। इस टीमों के ऊपर 30 सुपर वाइजर देखरेख के लिए भी लगाए गए हैं।


जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ0 राघवेंद्र प्रताप सिंह
जनपद में घर घर टीवी रोगी खोजे जा रहे हैं। हमारी 154 टीमें और 30 सुपरवाइजर इसके लिए कार्य कर रहे हैं। 4 लाख मरीजों तक पहुंचने का हमारा लक्ष्य था, जिसके बाद हमारे साथियों ने अच्छा काम करते हुए टारगेट से अधिक 4 लाख 1 हजार 613 लोगों की स्क्रीनिंग की। तो वहीं 1 हजार 40 लोगों के सैंपल लेकर जांच की गई है। जिनमें से 56 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनको उपचार दिया जा रहा है। 30 सुपरवाइजर लगातार फील्ड विजिट कर कार्य की समीक्षा कर रहे हैं तो वही मेरे द्वारा भी प्रतिदिन मौके पर जाकर अभियान के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। घर घर जाकर रोगियों तक पहुँचने के टारगेट को पांच भागों में बांटकर माइक्रोप्लान तैयार किया गया है। जिसमें बेवर में एक लाख, करहल में एक लाख, कुरावली में एक लाख, सुल्तानगंज में 50 हजार और मैनपुरी के शहरी क्षेत्र में 50 हजार मरीजों की स्क्रीनिंग की गई है।


     जिला क्षय रोग अधिकारी ने बताया कि 13 जनवरी से जनपद में तीसरे चरण शुरू किया जाएगा। जिनके लिए 11 टीम गठित कर दी गईं है। हर टीम में 2 सदस्य लगाए गए हैं। जो कि प्राइवेट हॉस्पिटल, क्लीनिक और मेडिकल स्टोर से टीवी रोगियों का डाटा जुटाएंगे

Back to top button
E-Paper