26/11 आतंकी हमले पर फिल्म करने वाले थे सुशांत, मौत से पहले मेकर्स से हुई बात

सुशांत सिंह राजपूत के एजेंट उदय सिंह गौरी ने तीन जांच एजेंसियों को यह जानकारी दी है कि एक्टर 26/11 को मुंबई में हुए आतंकी हमले पर बनने वाली एक फिल्म में काम करने वाले थे।

Loading...

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, सुशांत कॉर्नर स्टोन LLP नाम की टैलेंट मैनेजमेंट कंपनी से जुड़े थे और इससे जुड़े उदय सिंह गौरी ने मुंबई पुलिस, सीबीआई और ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) के सामने यह खुलासा किया है कि सुशांत की आईएसआई और कसाब को लेकर बनने वाली एक फिल्म को लेकर चर्चा चल रही थी। 13 जून को गौरी ने फिल्ममेकर निखिल आडवाणी, प्रोड्यूसर रमेश तौरानी और सुशांत की एक कांफ्रेंस कॉल कराई थी जिसमें तकरीबन 7 मिनट तक फिल्म को लेकर चर्चा चली थी।

कॉल के दौरान निखिल ने फिल्म का आइडिया सुशांत से शेयर किया था जिसे सुनने के बाद सुशांत भी उनसे सवाल-जवाब कर रहे थे।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि गौरी की 13 जून को तकरीबन 5-6 बार सुशांत से बात हुई थी। फिल्म को लेकर अगला डिस्कशन 15 जून को होना था लेकिन 14 जून को सुशांत अपने अपार्टमेंट में मृत मिले थे। गौरी से पहले निखिल आडवाणी और रमेश तौरानी भी इस बात का खुलासा कर चुके हैं कि 13 जून को उनकी एक कॉल पर सुशांत से बात हुई थी।

14 जून को हुई मौत

34 साल के सुशांत का शव 14 जून, 2020 रविवार सुबह बांद्रा स्थित फ्लैट में मिला था। पुलिस ने आत्महत्या की आशंका जताई थी। मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। पुलिस को सुशांत के कमरे से एक फाइल मिली, जिससे पता चला कि वो छह महीने से डिप्रेशन का इलाज करा रहे थे।

देर रात दोस्त को और सुबह बहन को किया था फोन

जानकारी के अनुसार, सुशांत ने शनिवार रात 12:45 बजे अपने एक एक्टर दोस्त महेश शेट्टी को कॉल किया था, लेकिन उसने रिसीव नहीं किया। रविवार सुबह सुशांत उठे, करीब 9 बजे उन्होंने जूस पिया। इसके बाद मुंबई में ही रहने वाली अपनी बहन को फोन किया, फिर बेडरूम में चले गए।

दोपहर 12:30 बजे उनके कुक ने लंच के लिए कई बार दरवाजा खटखटाया। मोबाइल पर कॉल किया। लेकिन जब कोई जवाब नहीं मिला तो उनकी बहन को फोन लगाया। बहन के आने के बाद चाबी वाले को बुलाकर बेडरूम का दरवाजा खोला गया। अंदर सुशांत फांसी पर लटके मिले। हालांकि, अब तक यह साफ नहीं हो पाया है कि सुशांत की मौत का कारण आत्महत्या थी या कुछ और?

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker