पराली को जलाये नहीं बल्कि खेतों में सड़ाकर खेत की उर्वरा शक्ति बढ़ाये : डीएम

बहराइच। सम्पूर्ण समाधान दिवस के उपरान्त जिलाधिकारी ने तहसील सभागार में ग्राम प्रधानों एवं किसानों के साथ बैठक करते हुए अपील की कि पराली को जलायें नहीं बल्कि खेतों में सड़ाकर खेत की उर्वरा शक्ति बढ़ायें या पराली को गो शालाओं में दान करें। पराली जलाये जाने की घटना प्रकाश में आने पर सम्बन्धित के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। किसी ग्राम में पराली जलाये जाने की घटना प्रकाश में आती है तो सम्बन्धित ग्राम प्रधान को जिम्मेदारी निर्धारित करते हुए नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। ग्राम प्रधान वित्त आयोग की धनराशि से ग्राम में पराली न जलाये जाने का व्यापक जन-जागरूकता अभियान चलाकर ग्राम वासियों को जागरूक करें।


जिलाधिकारी ने बताया कि पराली जलाये जाने की घटनाओं की निगरानी कर्मचारियों द्वारा की जा रही है इसके अलावा पुलिस द्वारा भी गश्त कर इस पर सतर्क निगाह रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि सेटलाइट व ड्रोन कैमरों से भी पराली जलाये जाने की घटना की निगरानी की जा रही है। न्याय पालिका व शासन के निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जायेगा। पराली जलाये जाने की घटना प्रकाश में आने पर सम्बन्धित के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। इस अवसर पर एसपी डा. विपिन कुमार मिश्रा, सीडीओ कविता मीना, एसडीएम सूरज पटेल आईएएस, सीओ नानपारा जंग बहादुर यादव, प्रशिक्षु आईएफएस चिंतन डोबारिया, डीडीओ राजेश कुमार मिश्रा, पीडीडीआरडीए अनिल कुमार सिंह, सीवीओ डा. बलवन्त सिंह, डीपीआरओ उमाकान्त पाण्डेय, जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद रहे।

Back to top button
E-Paper