अगर आपका भी बार-बार होता है पार्टनर से साथ संबंध बनाने का मन, तो जरुर पढ़े ये खबर…

नई दिल्ली। आमतौर पर देखा जाता है कि सेक्स के प्रति महिलाओं के मुकाबले पुरुष ज्यादा उतावले होते हैं और शादी के बाद वे अपने पार्टनर से बार-बार सेक्स करने को कहते हैं। इसके अलावा वे दूसरी महिलाओं के साथ भी संबंध बनाने से नहीं चूकते हैं। ऐसे पुरुषों को यदि ज्यादा समय तक सेक्स करने को न मिले या उनकी कामेच्छा पार्टनर से पूरी नहीं होती है तो वे कई बार हिंसा पर उतारु हो जाते हैं। ऐसे पुरुषों को सेक्स एडिक्ट की समस्या से ग्रस्त माना जाता है। ऐसे पुरुषों के लिए दैनिक भास्कर यूपी बता रहा है ऐसे उपाय जिनकी मदद से वे अपने आप पर काबू पा सकते हैं और इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं…

Loading...

वैसे तो किसी भी चीज के लिए एडिक्ट होना खतरनाक होता है। बात करें अगर सेक्स एडिक्शन की तो यह एक शारीरिक नहीं, ​बल्कि मानसिक समस्या है। यदि आपको ऐसा लगता है तो आप किसी भी साइकियाट्रिस्ट, साइकोसेक्सुअल कंसंल्टेंट एंड…से सलाह लेकर अपना उपचार शुरू करवा सकते हैं।

S$X एडिक्शन से कैसे पहुंचता है नुकसान ?
जो लोग सेक्स एडिक्शन की समस्या से जूझ रहे होते हैं। वे मनोवैज्ञानिक विकार, अकेला और अधूरापन महसूस करते हैं। यही वजह होती है कि इससे पीड़ित व्यक्ति चिंता, डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। ज्यादा तनाव की स्थिति में अल्कोहल का सेवन करने लगता है। सेक्स एडिक्ट कई लोगों के साथ संबंध बनाता है, जिसकी वजह से उसे यौन रोग व सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ होने का खतरा रहता है। अगर पीड़ित व्यक्ति के सेक्स करने की कामेच्छा शांत नहीं होती है, तो वह बेचैन व चिंतित हो जाता है। कई बार वह हिंसक या आक्रामक हो जाता है। सेक्स एडिक्ट महिलाओं में लगभग 70 फ़ीसदी महिलाएं कम से कम एक अनवांटेड प्रेग्नेंसी की शिकार हो जाती हैं।

अक्सर लड़कियां पति या बॉयफ्रेंड की इन बातों से होने लगती हैं बैचेन…

जानें क्या है S$X एडिक्शन ? 
सेक्स एडिक्शन एक बड़ी समस्या है। सेक्स करने की प्रबल इच्छा जब आपके नियंत्रण से बाहर हो जाती है और आप हर समय सिर्फ सेक्स के बारे में ही सोचते रहते हैं, तो यकीनन आप सेक्स एडिक्शन का शिकार है। चिकित्सा की भाषा में ऐसे व्यक्ति को सेक्स एडिक्ट कहा जाता है।इसे एक मानसिक बीमारी भी कहा जा सकता है। केवल पुरुष ही नहीं, बल्कि महिलाएं भी सेक्स एडिक्ट हो सकती हैं। सेक्स एडिक्ट होना और सेक्स के प्रति रुचि रखना दोनों में अंतर है। सेक्स एडिक्ट व्यक्ति सेक्सुअल एक्टिविटी से इस कद्र घिरा हुआ रहता है कि उसका ध्यान तक नहीं रहता कि वो अपने पार्टनर कितना नुकसान पहुंचा रहा है। कई बार सेक्स एडिक्शन इतना ख़तरनाक हो जाता है कि इससे पीड़ित व्यक्ति निराश हो जाता है और आत्महत्या जैसा क़दम तक उठा लेता है। इस स्थिति को अब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर कहते हैं।

ये होते हैं S$X एडिक्शन के संकेत 
अगर आप सेक्स एडिक्ट है तो आपको धीरे-धीरे आपको खुद इसका एहसास होने लगेगा, लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह लिए आप अपने में मन में किसी भी तरह की गलत भ्रांति न पालें। जब कोई व्यक्ति सेक्स एडिक्शन का शिकार हो जाता है तो उसकी सेक्स करने की इच्छा इतनी बढ़ जाती कि उसका हर काम प्रभावित होने लगता है। न ऑफिस में मन लगता है न घर में और न ही पढ़ाई में ध्यान लग पाता है। सेक्सुअल एक्टिविटी के गंभीर परिणामों का अंदाजा होते हुए भी उस एक्टिविटी से बाहर न निकल पाना। सेक्स एडिक्शन का शिकार व्यक्ति दो-तीन बार पार्टनर के साथ सेक्स करने के बाद भी संतुष्ट नहीं होता है और दूसरी महिलाओं या पुरुषों के साथ संबंध बनाने लगता है। ऐसा व्यक्ति दिनभर अश्लील फिल्में देखता है। सेक्स एडिक्ट्स कई बार ये भी ध्यान नहीं देते कि वो कहां हैं, ऑफिस, कॉलेज, सार्वजनिक जगह पर पोर्न वीडियो या फोटोज देखने लगते हैं। ऐसे लोगों को कई बार मास्टरबेट करने पर भी संतुष्टि नहीं मिलती है। इससे पीड़िता व्यक्ति ज्यादातर समय सेक्स और सेक्सुअल एक्टिविटीज़ के बारे में सोचते रहते हैं।

जानें सेक्स एडिक्ट और सेक्सुअली एक्टिव होने में फ़र्क़
सेक्स एडिक्ट होना एक समस्या है, लेकिन सेक्सुअली एक्टिव होना कोई बीमारी नहीं है। दोनों में बहुत अंतर है। रोज मास्टरबेट करना सेक्स एडिक्शन नहीं है। चिकित्स कुछ हद तक मास्टरबेशन को सेहत के लिए अच्छा मानते हैं। कभी-कभी पोर्न फिल्में देखना सेक्स एडिक्शन नहीं है। कभी-कभी अश्‍लील मैसेजेस, फोटोज या वीडियोज़ देखना सेक्स एडिक्शन नहीं है। अपने पार्टनर के साथ दिन में दो से तीन बार सेक्स करना भी सामान्य बात है। कभी-कभार मजाक-मस्ती में दोस्तों के बीच अश्‍लील बातें करना भी सेक्स एडिक्शन नहीं माना जा सकता है।

क्या है सेक्स एडिक्शन का इलाज ?
अगर आप सेक्स एडिक्शन का शिकार है तो समय रहते आपको इस समस्या से निजात पाना जरुरी है। इसके लिए आपको किसी अच्छे सायकोलॉजिस्ट या साइकियाट्रिस्ट के पास जाकर अपना ट्रीटमेंट करवाना चाहिए। कुछ दवाइयां और साइकोथेरेपी की मदद से मरीज बिल्कुल ठीक हो सकता है। अगर किसी परिचित में आपको सेक्स एडिक्शन के लक्षण नजर आ रहे हैं, तो उससे इस बारे में बात करने की कोशिश करें। साथ ही उसे समझाएं कि वो इस लत से छुटकारा पाने के लिए किसी प्रोफेशनल की मदद ले।

इन बातों का भी रखें ध्यान

  • रोज योग और प्राणयाम करें।
  • मन में सकारात्मक विचार लाएं।
  • जॉगिंग, लॉन्ग वॉक आदि से भी फर्क पड़ेगा।
  • परिवार के साथ समय बिताएं।
  • दोस्तों के साथ कहीं बाहर घूमने जाएं।
  • खुद को अच्छे कामों में व्यस्त रखें।
  • कंप्यूटर, मोबाइल, लैपटॉप से कुछ व़क्त के लिए इंटरनेट निकाल दें।
  • अपना पसंदीदा काम करें और उसमें बिज़ी रहें।
  • संगीत सुनें।
  • सामाजिक गतिविधियों में शामिल हों।
  • अकेले न रहें।
  • अच्छे दोस्त बनाएं और अपनी बातें उनसे शेयर करें।
Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker