लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए देश के बच्चों से PM मोदी की अपील, वीडियो ट्वीट कर पहुंचाया संदेश

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए देश के बच्चों से अपील की है। पीएम ने एक वीडियो ट्वीट कर कहा है, ‘मुझे अपनी ‘बाल सेना’ पर पूरा विश्वास है। वे इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि लोग अपने घरों में रहें, ताकि COVID-19 के खिलाफ भारत प्रभावी तरीके से लड़ सके।’

Loading...

इस वीडियो में दिखाया गया है कि एक शख्स फोन पर बात करते हुए सोफे से उठता है और बाहर जाने के लिए कार की चाबी उठाता है। इसपर वहां मौजूद उसकी बेटी उसके हाथ से चाबी ले लेती है और पिता को दोबारा से सोफे पर बिठा देती है। बच्ची कहती है पापा घर पर रहें, क्योंकि 21 दिनों का लॉकडाउन है। इस वीडियो के जरिए पीएम मोदी ने बच्चों को प्रेरित किया है कि वे घर के बड़ों को बाहर जाने रोकें।

पीएम मोदी को बच्चों से खास लगाव रहता है। वे अक्सर बच्चों से बात करते रहते हैं। कई बार कार्यक्रमों में वे प्रोटोकॉल से बाहर जाकर बच्चों से मिलते रहे हैं।

21 दिनों तक प्रतिदिन 9 गरीब परिवारों की करें मदद
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना का जवाब करुणा से देने की अपील की है। उन्होंने कहा कि समर्थवान लोग अगले 21 दिनों तक प्रतिदिन नौ गरीबों की मदद करने का प्रण लें तो अच्छा नवरात्र हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बातें लॉकडाउन के कारण गरीबों के सामने आईं मुश्किलों के सवाल पर कहीं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम गरीबों और जरूरतमंदों के प्रति करुणा दिखाकर भी कोरोना को पराजित करने का एक कदम उठा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसदीय क्षेत्र वाराणसी की जनता को वीडियो कांफ्रेंसिंग से शाम पांच बजे संबोधित करते हुए कहा, ‘अभी नवरात्र शुरू हुआ है। अगर हम अगले 21 दिन तक, 9 गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें, तो इससे बड़ी आराधना मां की क्या होगी। इसके अलावा आपके आसपास जो पशु हैं, उनकी भी चिंता करनी है। मेरी लोगों से प्रार्थना है कि अपने आस-पास के पशुओं का भी ध्यान रखें।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘जो तकलीफें आज हम उठा रहे हैं, जो मुश्किल आज हो रही है, उसकी उम्र फिलहाल 21 दिन ही है। लेकिन कोरोना का संकट समाप्त नहीं हुआ, इसका फैलना नहीं रुका तो कितना ज्यादा नुकसान हो सकता है, इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है।’

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker