इंटरनल सर्वे ने बढ़ा दी भाजपा की बेचैनी, नीतीश की लोकप्रियता पर बड़ा दावा!

 बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिये एक इंटरनल सर्वे कराया है, ये सर्वे पार्टी के जनरल सेक्रेटरी, एमएलसी और प्रदेश उपाध्यक्षों के 90 लोगों की टीम ने की है, सूत्रों की मानें तो सर्वे 25 से 28 अगस्त के बीच किया गया है, तीन दिनों तक इस टीम ने पार्टी के मंडल स्तर पर जाकर जानकारी इकट्ठा की है, सर्वे के आधार पर जो रिपोर्ट बीजेपी के पास आई है, वो चौंकाने वाली है, दरअसल बीजेपी के इस आंतरिक सर्वे में ये बात सामने आई है, कि बिहार में 15 साल के सत्ता के शीर्ष पर बैठे सीएम नीतीश कुमार के किलाफ इस बार एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर काफी ज्यादा है।

नीतीश पर लोगों का भरोसा कम
सर्वे में ये बात भी सामने आई है, कि बीजेपी को छोड़ने और राजद के साथ जाने, फिर राजद को छोड़कर बीजेपी के साथ आने के नीतीश कुमार के फैसले के बाद उनकी विश्वसनीयता पर लोग संदेह करने लगे हैं, इसके अलावा सर्वे में ये बात भी सामने आई है, कि लालू को लेकर नीतीश कुमार कहीं ना कहीं सॉफ्ट है, वहीं बीजेपी के बड़े से बड़े नेता लालू पर सीधा हमला करते हैं।

Loading...

नीतीश के काम से लोग संतुष्ट नहीं
इसके साथ ही नीतीश कुमार के इस कार्यकाल के 5 साल के काम से लोग संतुष्ट नहीं हैं, सूत्रों की मानें तो बीजेपी की इस सर्वे टीम ने अपनी रिपोर्ट बिहार बीजेपी के प्रभारी भूपेन्द्र यादव और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को दे दी है। कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं ने इस मुद्दे पर चर्चा भी की है, यही वजह है कि बीजेपी ने इस चुनाव में ये तय किया है, कि वो ज्यादा जोर पीएम नरेन्द्र मोदी के नाम और काम पर ही देगी, बीजेपी का इस बार का चुनावी नारा भी प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की तर्ज पर आत्मनिर्भर बिहार है।

राजद का हमला जदयू का बचाव
बहरहाल बीजेपी की इंटरनल सर्वे पर जदयू नेता और बिहार सरकार के मंत्री महेश्वर हजारी ने कहा कि नीतीश कुमार की लोकप्रियता घटी नहीं है बल्कि बढी है, इस बार फिर उनके चेहरे पर बिहार में सरकार बनेगी, वहीं राजद नेता भाई विरेन्द्र ने इसी बहाने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि अब वो उनके सहयोगी भी समझ चुके हैं, कि नीतीश कुमार की जमीन खिसक गई है।

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker