कानपुर के सबसे बड़े अस्पताल का हैरान करने वाला Video, मरीज खुद ले रहे नेजल स्वाब और थ्रोट के सैंपल, सोशल

उत्तर प्रदेश के कानपुर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से जिला प्रशासन ने 10 थाना क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाया है। ऐसे में हैलट (कोविड-19 हॉस्पिटल) से हैरान करने वाली तस्वीरें सामने आई हैं। कोरोना टेस्ट कराने अस्पताल पहुंचे मरीज खुद अपने हाथ से नेजल स्वाब और गले के सैंपल लेकर जांच के लिए दे रहे हैं। डॉक्टरों की इस लापरवाही का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। जिला प्रशासन से लेकर जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में हड़कंप मच गया।

Loading...

हैलट के कोविड-19 अस्पताल को लेवल थ्री हॉस्पिटल बनाया है। हैलट कानपुर बुंदेलखंड का सबसे बड़ा कोविड-19 हॉस्पिटल है। हैलट अस्पताल में न्यूरो साइंस सेंटर और मेटरनिटी विंग है, इस लेवल थ्री हॉस्पिटल में 200 बेड, 20 वेंटिलेटर और बाई पैप मशीन से सुसज्जित है। सभी तरह की सुविधाओं से लैस इस हॉस्पिटल में डॉक्टरों की लापरवाही एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है, जिसने सभी को हैरान कर दिया है।

वायरल वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कोरोना टेस्ट कराने आए मरीजों की जिंदगी से किस प्रकार से खिलवाड़ किया जा रहा है। कोरोना टेस्टिंग रूम में एक कर्मचारी दूर खड़े होकर मरीजों को बता रहा है कि कैसे नेजल स्वाब और थ्रोट से सैंपल लेना है। मरीज अपने हाथों से सैंपल लेकर जांच के लिए दे रहे हैं।

कोरोना की चपेट में है पूरा शहर
कोरोना ने पूरे शहर को अपनी चपेट में ले लिया है। शहर में संक्रमित मरीजों की संख्या 3420 पहुंच गई है। संक्रमण की चपेट में आकर 164 पेशेंट जान गवां चुके हैं। इसके साथ रिकवरी रेट में भी भारी गिरावट आई है। 1648 पेशेंट डिस्चार्ज होकर घर लौट चुके हैं। शहर में 1610 एक्टिव पेशेंट हैं।

डॉक्टराें ने दी सफाई
डॉक्टर रिचा गिरी का कहना है कि यह गलत है कि मरीज खुद अपना सैंपल जांच के लिए देते हैं। उस वीडियो का हम लोगों ने क्लिप निकाल लिया है। हम लोगों ने पहचान कर लिया है, वो दोनों हमारे यहां के कर्मचारी हैं। इनके विरूद्ध हम लोग एक्शन लेंगे। हमारे यहां के डॉक्टर कह रहे थे कि आप लोग रुकिए वो किसी और का सैंपल निकाल रहे थे। उसके बावजूद वो अपने आप सैंपल निकाल रहा था, और दूसरे से कह रहा था कि इसका वीडियो बनाओ। यह साजिश के तहत काम हो रहा है।

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker