सीतापुर : अपहरण कर्ताओं की निदर्यता से कांप उठी मानवता, लक्ष्मी की मौत बनी पुलिस महकमे के लिये चुनौती



पुलिस ने केस दर्ज किया धारा 344 व 304 में मुकदमा
सीतापुर। लक्ष्मी को न तो योगी का एण्टी रोमियों बचा सका और न उसकी हिफाजत के किसी का हाथ उठा। नयिति ने लक्ष्मी को प्रारब्ध से जोड़ दिया और उसकी तड़प तड़प कर मौत हो गयी। लक्ष्मी तो अपहरण कर्ताओं के चंगुल से बचना चाहती थी उसको क्या पता था कि अपहरणकर्ताओं से बच जायेगी लेकिन उसके पीछे वाहन उसकी मौत बनकर आ रहा है। लक्ष्मी ने वाहन से छलांग लगाकर अपहरण कर्ताओं के चंगुल से तो बच गयी लेकिन वाहन से कुचल गयी। अपहरणकर्ताओं की मंशा क्या थी इसका खुलासा तो अपहरण कर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद ही होगा लेकिन इस घटना के बाद से क्षेत्र की जनता में आक्रोश की लहर दौड़ गयी है। अगर पुलिस सख्त न होती और तत्काल कार्यवाही न करती तो कानून व्यवस्था भी पटरी से उतर सकती थी लेकिन जब जनता ने देखा कि पुलिस लक्ष्मी को न्याय दिलाने के लिये कमर कस चुकी है और लक्ष्मी की मौत को चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए उचित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर तेजी के साथ कार्यवाही करनी शुरू कर दी है तो लोगो का यकीन पुलिस पर हो गया और जनता ने ही कप्तान की कार्यप्रणाली में अपनी आस्था जताते हुए कहा कि कप्तान आरपी सिंह के कार्यकाल में अपराधियों को सख्त से सख्त सजा अवश्य ही मिलेगी और जनता शांत बैठ गयी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी  के विरूद्ध धारा 366 व 304 में मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।


गौरतलब हो कि लखीमपुर खीरी जिले की लक्ष्मी पुत्री वीरेन्द्र अवस्थी निवासी ग्राम पिपरझला थाना मितौली जिला लखीमपुर खीरी की शनिवार को रामकोट इलाके में संदिग्ध हालात में सड़क हादसे में मौत हो गई। मृतका के परिवारीजन एक युवक पर अगवा कर ले जाने का आरोप लगाते हुए हत्या की आशंका जता रहे हैं।

पुलिस का कहना है कि जांच पड़ताल के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। लखीमपुर खीरी जिले के मितौली थाना क्षेत्र के पिपरझला गांव निवासी लक्ष्मी (20) पुत्री वीरेंद्र शनिवार को गांव के ही प्रियांशु व उनकी मां के साथ जिला मुख्यालय दवा लेने आई थी। दवा लेने के बाद इन लोगों ने लक्ष्मी को शहर कोतवाली इलाके में कैप्टन मनोज पांडेय चौक पर छोड़ दिया था। सूत्र बताते हैं कि उसे यहां किसी रिश्तेदार के यहां जाना था। लेकिन कुछ देर बाद उसकी रामकोट इलाके में कटीली के निकट संदिग्ध हालात में सड़क हादसे में मौत हो गई। खबर पाकर परिवार के लोग मौके पर पहुंचे। पुलिस ने भी मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल व कार्रवाई शुरू की। घटना को लेकर परिवार के लोगों का कहना है कि उसे कैप्टन मनोज पांडेय चौक से अंकुल पुत्र शिवप्रकाश  व एक अज्ञात द्वारा अगवा किया गया था। परिवार के लोग हत्या की भी आशंका जता रहे हैं। तहरीर दिए जाने के बाद पुलिस ने अपहरण करने वाले पर धारा 366 व 304 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने कुछ गिरफ्तारियां भी की है।


पोस्टमार्टम गृह पर काटा हंगामा
पोस्टमार्टम गृह पर शव देर से मिलने पर परिजनों ने हंगामा काटना शुरू कर दिया गया। शव विच्छेदन होने की प्रक्रिया महज तीन बजे ही पूरी हो गई थी मगर पोस्टमार्टम हाउस के कर्मचारी नशे में धुत हो गए और चार बजे तक पोस्टमार्टम ही नही कर पाए। इस पर नाराज परिजनों ने हंगामा काटना शुरू कर दिया। परिजनों को हंगामा करते देख आनन-फानन में शव का पोस्टमार्टम किया गया। 

Back to top button
E-Paper