एनएच 927 पर स्ट्रीट लाइट न होने से कस्बे मे रहता है धुप अंधेरा

रूपईडीहा/बहराइच। भारत से नेपाल को जोडने वाली नेशनल हाईवे रोड 927 पर शाम के बाद निकलने में डर लगता है। करीब दो किलोमीटर लम्बी इस 4 लेन सडक पर स्ट्रीट लाइट नहीं होने से शाम ढलते ही धुप अंधेरा हो जाता है। यह स्थिति तब है जब इस सड़क के दोनों ओर घर बसे हुए है। स्थानीय वासी लम्बे समय से मुख्य मार्ग पर स्ट्रीट लाइट लगाने की मांग कर रहे हैं। लेकिन स्थानीय प्रशासन और जनप्रतिनिधियों द्वारा इस समस्या को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। जिससे यह समस्या यथाबत बनी हुई हैं। विकास खंड नवाबगंज में आने वाला रूपईडीहा कस्बा की पहचान भारत नेपाल के सरहदी क्षेत्र के रूप में की जाती है। इस क्षेत्र में नेपाली ग्राहकों का खरीदारी के लिए आना जाना लगा रहता है।

] प्रतिदिन हजारों की संख्या में मालवाहक ट्रक नेपाल जाते है। क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने की जिम्मेदारी जनप्रतिनिधि के साथ अधिकारियों की है। लेकिन यहां से चुने गए जनप्रतिनिधि और अधिकारी इस क्षेत्र की लम्बे समय से अनदेखी कर रहे हैं। पहले इस क्षेत्र की समस्या सड़क और बिजली थी। इसे देखते हुए नेशनल हाईवे अथार्टी ऑफ इंडिया ने चार वर्ष पहले सड़क का निर्माण कर दिया। लेकिन प्रशासन ने अब तक कस्बे से गुजरने वाली सड़क पर स्ट्रीट लाइट लगाने का काम शुरू नहीं किया। जबकि विगत में रहे डीएम ने इंडो नेपाल बॉर्डर के सरहदी क्षेत्र रूपईडीहा का निरीक्षण करने के बाद कहा था कि जल्द ही नेशनल हाईवे के डिवाइडर पर स्ट्रीट लाइट लगाई जाएगी। 


अंधेरे से बना रहता है हादसों डर
नेशनल हाईवे रोड पर कुछ माह पूर्व रात के समय एक बाइक सवार अंधेरे के चलते सड़क पर बैठे मवेशियों को नहीं देख पाया और उसकी बाइक टकरा गई। इस हादसे में उस व्यक्ति की मौत हो गई थी। इसके अलावा सड़क पर अंधेरा होने के कारण रात के समय लोगों को सड़क पर लूटपाट जैसी घटनाओं का भी डर बना रहता है।

Back to top button
E-Paper