मूसलाधार बारिश से कस्बा व ग्रामीण इलाकों में जलजमाव

गोरखपुर। सोमवार को सुबह से शुरू हुई मूसलाधसार बारिश से बडहलगंज कस्बा व ग्रामीण इलाकों में जलजमाव हो गया। हालांकि कई मुहल्लों में बारिश बंद होने के बाद जलजमाव की समस्या से निजात मिल गई मगर तमाम जगहों पर जलनिकासी बाधित होने से समस्या बरकरार है।

 
    शुक्रवार के बाद सोमवार को हुई बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत तो दी मगर जलजमाव के चलते लोगों को समस्या से दो चार होना पडा। बारिश से सड़कों पर भारी जलजमाव के साथ नालियों के जाम होने से आबादी वाले इलाकों के लोग जलजमाव की समस्या उत्पन्न हो गई। उपनगर के कालेज रोड, बाईपास रोड व नौशहरा मुहल्ले सहित कई जगहों पर बारिश का पानी ओवरफ्लो होकर सडकों पर बहने लगा। नगर से सटे ग्राम पंचायत बुढ़नपुरा के कल्यानपुर स्थित कालेज रोड पर जल जमाव के चलते मेडबंदी की स्थिति उत्पन्न हो गई।

Loading...

नालियों की सफाई न होने से कालेज रोड पर पानी का बहाव थम गया कन्हैया ओझा, श्रीराम, अभय मौर्य, डा. प्रशांत सिंह, सहित अन्य दुकानों के बाहर और अंदर पानी लग जाने से यह अपने दुकान के अंदर लगे पानी उड़ेलते नजर आए। बाद में इन दुकानदारों को मेडबंदी करनी पडी। वहीं टीचर कालोनी में जल जमाव से विपिन सिंह, डा सुशील श्रीवास्तव, राधेश्याम तिवारी, अंशू द्विवेदी, योगेश राय, रवि श्रीवास्तव, शिवाकांत पांडेय, उत्कर्ष श्रीवास्तव सहित अन्य लोगों के घरों में पानी घुस गया। 


जल निकासी के लिए सभासद ने डीएम को भेजा पत्रक
 नगर पंचायत के वार्ड संख्या 12 की सभासद उर्मिला देवी व पूर्व सभासद सुनील यादव ने सोमवार को जिलाधिकारी, अपर जिलाधिकारी – वित्त व उपजिलाधिकारी गोला को पत्र भेज कर जलनिकासी की व्यवस्था सुदृढ कराने की मांग की। उन्होंने कहाकि कई वर्षों से उपनगर के महदेवा व नौसहरा मुहल्ले में बारिश का पानी भर जा रहा है। जिससे लोगों को घर से निकलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। साथ ही ज्यादे दिनों तक पानी का जमाव होने के नाते मुहल्ले में गंदगी के चलते संक्रामक बीमारी फैलने की आशंका प्रबल हो जाती है। अधिक बारिश होने पर पानी लोगों के घरों में प्रवेश कर जाता है। पिछले वर्ष 2019 में वर्षात के मौसम में तीन महीने के अंदर दो बार घरों में व कस्बे के प्रमुख मंदिर बाबा जलेश्वरनाथ परिसर में कई दिनों तक पानी लगा रहा। नगर पंचायत प्रशासन से इसके लिए कई बार मांग की जा चुकी है मगर अब तक इस पर ध्यान नहीं दिया गया। 

Loading...
loading...
div#fvfeedbackbutton35999{ position:fixed; top:50%; right:0%; } div#fvfeedbackbutton35999 a{ text-decoration: none; } div#fvfeedbackbutton35999 span { background-color:#fc9f00; display:block; padding:8px; font-weight: bold; color:#fff; font-size: 18px !important; font-family: Arial, sans-serif !important; height:100%; float:right; margin-right:42px; transform-origin: right top 0; transform: rotate(270deg); -webkit-transform: rotate(270deg); -webkit-transform-origin: right top; -moz-transform: rotate(270deg); -moz-transform-origin: right top; -o-transform: rotate(270deg); -o-transform-origin: right top; -ms-transform: rotate(270deg); -ms-transform-origin: right top; filter: progid:DXImageTransform.Microsoft.BasicImage(rotation=4); } div#fvfeedbackbutton35999 span:hover { background-color:#ad0500; }
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker