इन चीजो की कमी होने पर शरीर देता है ये संकेत, कभी भूल से भी ना करें नज़रअंदाज़

वैसे तो शरीर के लिए हर पौषक तत्व काफी महत्व रखता है। लेकिन कैल्शियम की इसे चुस्त तंदुरुस्त बनाए रखने में एक अहम भूमिका है। सभी प्रकार के मिनरल बहुत ही जरूरी होते हैं लेकिन कुछ पोषक तत्वों के बिना जिंदगी की कल्पना नहीं की जा सकती, जिसमें से एक ऐसा ही बेहद जरूरी मिनरल है कैल्शियम। कैल्शियम की कमी होने पर हमारा शरीर आसानी से बीमारियों से घिर जाता है। कैल्शियम न केवल हमारे शरीर में हड्डियों की मजबूती प्रदान करता है बल्कि शारीरिक विकास और मांसपेशियों को मजबूत बनाने में भी मदद करता है।

कैल्शियम हमारे शरीर के लिए एक बेहद ही महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में भी मदद करता है। आजकल महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुषों में भी कैल्शियम की कमी की समस्याएं काफी तेज़ी से बढ़ती जा रही हैं। इसके पीछे कारण है बिगड़ती दिनचर्या और बदलता खान-पान। कई लोग काम की भागदोड़ के चलते अपने शरीर का पर खास ध्यान नही दे पाते। जिसके चलते कैल्शियम की कमी शरीर में उत्पन्न हो जाती है। इसलिए इस बात का ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि अगर हमारे शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाए तो हमें कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

हालांकि, ज्यादातर स्थितियों में कैल्सियम की कमी होने का पता ही नहीं लग पाता, जिसके कारण पीड़ित कई और समस्याओं का निदान कराने की दवाइयां खाते रहता है। जिसके चलते वो समस्या जस की तस अपनी जगह पर बनी रहती है और पीड़ित धीरे धीरे कई और बीमारियों के बीच जकड़ता चला जाता है। अगर आप भी कैल्शियम की कमी होने पर लक्षणों के बारे में नहीं जानते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैल्शियम की कमी होने पर शरीर कैसे आपको संकेत देता है। ऐसे संकेत अगर आपको आपके या किसी अन्य व्यक्ति के शरीर पर दिखाई देने लगें, तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श करके शरीर में कैल्शियम की पूर्ति करने योग्य दवाई लें।

कैल्शियम की कमी होने पर शरीर देता है ये 5 संकेत

बालों का झड़ना- कैल्शियम की कमी होने का असर बालों पर भी अधिक पड़ता है और बाल झड़ने लग जाते हैं। इतना ही नहीं इनकी चमक भी एकदम गायब हो जाती है। इसलिए अगर आपके बाल एकदम से झड़ने लग जाएं तो आप समझ लें की आपके शरीर को उच्च मात्रा में कैल्शियम नहीं मिल पा रहा है।

दांतों का कमजोर होना- कैल्शियम की कमी होने पर दांतों में सड़न होने की समस्या उत्पन्न होने लगती है। कैल्शियम की कमी होने से हड्डियों के अलावा दांतों पर भी बुरा असर पड़ता है और दांत कमजोर हो जाते हैं। अगर आपके दांतों में दर्द होने लगे या दांत खराब होते दिखें, तो आपको कैल्शियम की कमी हो सकती है। वहीं छोटे बच्चों में कैल्शियम की कमी होने पर उनके दांत आसानी से टूट जाते हैं और नया दांत आने में समय लगा जाता है।

मांसपेशियों में रहे दर्द- कैल्शियम की कमी होने पर हमारे शरीर के मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या उत्पन्न होने लगती है। अगर मांसपेशियों में दर्द होने लगे तो ये कैल्शियम की कमी का संकेत माना जाता है। इसलिए जिन लोगों को मांसपेशियों में दर्द की शिकायत रहती है और जिनकी मांसपेशियां अकड़ जाती हैं वो लोग कैल्शियम की टेस्ट जरूर करवा लें।

जोड़ों में दर्द- कैल्शियम की कमी का सबसे बुरा असर जोड़ों पर भी पड़ता है और जोड़ों में दर्द होने लग जाता है। इस गंभीर समस्या की शुरुआत होने पर कमजोरी और थकान बढ़ने लगती है। कुछ काम में मन लगता ही नहीं है, साथ ही थोड़ा सा भी काम करने पर हड्डियों में दर्द होने लगता है। इस स्थिति के शरीर में बनने से पहले हाथ पैरों में दर्द होना शुरु हो जाता है।

नाखूनों का कमजोर होना- कैल्‍शियम की कमी होने पर हमारे नाखून बहुत कमजोर होकर टूटने लगते हैं। साथ ही, बाल भी झड़ने लगते हैं। नाखूनों के लिए कैल्शियम बेहद ही जरूरी माना जाता है और कैल्शियम की कमी होने पर नाखूनों का विकास अच्छे से नहीं होता। जिन लोगों में कैल्शियम की कमी पाई जाती है उन लोगों के नाखून एकदम पतले हो जाते हैं और आसानी से टूटने लगते हैं।

इन चीजों का करे सेवन

जो लोग ये सोचते हैं कि उनके शरीर में कैल्शियम की कमी नहीं सकती है, तो यह गलत है। केवल बूढ़े ही नहीं बल्‍कि हर उम्र के लोगों को भी कैल्शियम की कमी होती है।कैल्‍शियम की कमी का पता लगाने के लिए खून की जांच करवाएं और डॉक्‍टर द्वारा लिखें गए अन्‍य लैब टेस्‍ट करवाएं।

कैल्शियम की कमी होने पर आप कैल्शियम युक्त चीजें, जैसे दूध, दही, बादाम , लीची, अखरोट, चने, अंकुरित अनाज और इत्यादि तरह की चीजों का सेवन करना शुरू करे दें। इन चीजों को लगातार एक महीने तक खाने से शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ने लग जाएगी। इसके अलावा आप चाहें तो कैल्शियम की दवा का भी सेवन कर सकते हैं।

Back to top button
E-Paper