इन देशों में नहीं दौड़ती है कोई भी ट्रेन, ट्रैवल के लिए ये है बेस्ट ऑप्शन

हमारे देश के रेल नेटवर्क की बात करें तो ये दुनिया के कुछ सबसे लंबे रेलवे नेटवर्क में शुमार है. दुनिया के ट्रांसपोर्टेशन के सबसे पुराने तरीकों में रेल शुमार है. सैकड़ों देशों में यात्रा करने का सबसे अहम और लोकप्रिय ज़रिया भी यही माना जाता है. हालांकि आज भी दुनिया में कई ऐसे देश हैं, जहां रेल नहीं चलती है. आज हम आपको ऐसे ही देशों के बारे में बताएंगे, जहां आज भी ट्रेन में बैठना लोगों को नसीब नहीं होता है.

तकनीक और आर्किटेक्चर की अद्भुत मिसालें आपको दुनिया भर में मिल जाएंगी, फिर भी कुछ देश ऐसे हैं, जहां आज भी कहीं आने-जाने के लिए सड़क से बेहतर दूसरा कोई विकल्प नहीं है. इन देशों में रेलवे प्रोजेक्ट्स शुरू तो हुए, लेकिन ये कभी भी बहाल नहीं हो सके. ऐसे देशों में कुछ नाम तो ऐसे हैं, जिन्हें सुनकर आप हैरान रह जाएंगे.

भूटान

हमारे पड़ोसी देशों में शुमार भूटान साउथ एशिया का सबसे छोटा देश है. अभी तक इस देश के पास कोई रेलवे नेटवर्क नहीं है. हालांकि इसे भारतीय रेलवे नेटवर्क से जोड़े जाने की बात हो रही है. भारत ने नेपाल के तोरीबारी को पश्चिमी बंगाल के हाशिमारा से जोड़ने का प्लान तैयार किया है और ये रेल लाइन भूटान से होकर गुजरेगी.

अंडोरा

अंडोरा देश आबादी के हिसाब से दुनिया का 11वां सबसे छोटा देश है. इस देश के पास कभी भी रेलवे नेटवर्क नहीं रहा. यहां के लोगों के लिए सबसे करीबी स्‍टेशन फ्रांस में है और इस देश तक जाने के लिए यहां से बस सेवा चलती है.

कुछ देश ऐसे हैं, जहां आज भी कहीं आने-जाने के लिए सड़क से बेहतर दूसरा कोई विकल्प नहीं है.

लीबिया

लीबिया में पहले रेलवे लाइन्स थीं, लेकिन उन्हें सिविल वॉर के दौरान उखाड़ दिया गया. लीबिया में साल 1965 से ही कोई रेलवे नेटवर्क ऑपरेशनल नहीं है. साल 2001 में रास अजदिर और सिर्ते को जोड़ने वाली रेलवे लाइन पर काम भी शुरू हुआ था. इसके अलावा रास अजदिर और त्रिपोली को जोड़ने वाली रेलवे लाइन पर भी साल 2008 और 2009 के बीच काम शुरू हुआ.

कुवैत

तेल के अकूत भंडार वाले देश कुवैत में एक भी रेल नेटवर्क नहीं है. कुवैत में कई रेलवे प्रोजेक्‍ट्स की योजना तैयार की गई है, जो कुवैत सिटी से ओमान के बीच होगा. ये 1200 मील लंबा गल्फ रेलवे नेटवर्क होगा.

साइप्रस

साइप्रस में भी कोई ऑपरेशनल रेल नेटवर्क नहीं है. हालांकि यहां साल 1905 से 1951 तक रेलवे नेटर्क था, लेकिन इसे आर्थिक वजहों से बंद कर दिया गया. साइप्रस माइंस कॉर्पोरेशन की ओर से भी रेल लाइन एक्सटेंशन शुरू किया गया था, जिसे 1974 में बंद कर दिया गया.

कई देशों में रेलवे प्रोजेक्ट्स शुरू तो हुए, लेकिन ये कभी भी बहाल नहीं हो सके.

ईस्ट तिमोर

ईस्ट तिमोर में भी रेलवे नेटवर्क नहीं रहा. इस देश में लोग सड़क के ज़रिये ही कहीं आते-जाते हैं. हालांकि यहां 310 मील लंबे एक्सटेंड इलेक्ट्रिफाइड सिंगल ट्रैक नेटवर्क के निर्माण का प्रस्ताव दिया गया है, जिससे लॉस पालोस से बोबोनारो को जोड़ा जाएगा.

अन्य भी हैं देश

इसके अलावा भी मॉरिशस, ओमान, कतर, रवांडा, सैन मैरिनो, माल्टा, मकाऊ, मार्शल आइलैंड. सोमालिया, सोलोमन आईलैंड, टोंगा, सूरीनाम, त्रिनिदाद एंड टोबैगो, टुवालू, वानुआतू और यमन में भी रेल नेटवर्क नहीं है.

Back to top button