इस बच्चे की बढ़ रही है जीभ, जानिए क्या हो रही भयंकर परेशानी

अगर हम आपसे पूछे की जीभ होना जरूरी है क्या? तो आप कहेंगे ये कैसा सवाल है. जीभ तो हर किसी की होती है जिससे वो स्वाद पहचान पाता है और बोल पाता है. लेकिन क्या आपने कभी ये सुना है कि जीभ से किसी को सांस लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता हो. अब भला जीभ से सांस का क्या कनैक्शन? क्या आपने किसी ऐसे बच्चे को देखा है, जिसकी जीभ काफी बड़ी हो? आम तौर पर 0.02% लोगों की जीभ सामान्य से थोड़ी बड़ी होती है, लेकिन अगर ये जीभ लगातार बढ़ती ही जाए तो? कुछ ऐसा ही हुआ है इस तीन साल के मासूम के साथ ऐसा ही कुछ हम आपको बताने जा रहे हैं.

जहां एक बच्चे को जीभ के कारण ही सांस लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता था. इस बच्चे का नाम ओवेन थॉमस है. जोकि अमेरिका का रहने वाला है. दरअसल, ओवेन बेहद दुर्लभ बीमारी बेकविथ-विएडेमन सिंड्रोम (BWS) से जूझ रहा है. इस बीमारी में शरीर का कोई खास अंग तेजी से बढ़ने लगता है और उसे रोकना नामुमकिन हो जाता है. जिसके कारण उसे अपनी जीभ के कारण सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. इसीलिए बार बार उसका सांस फूलने लगता था. इसे मॉनीटर करने के लिए उसके माता-पिता डिजिटल मॉनीटर ले आए, जिसकी वजह से उसकी कई बार जान बची.

तो वहीं इस बीमारी का एक ही इलाज है, और वो है बेहद मुश्किल तरह का ऑपरेशन. ये बीमारी 15 हजार में से एक बच्चे को हो सकती है. हालांकि बहुत मामलों में थोड़ी ज्यादा लंबी होने के बाद जीभ की लंबाई बढ़नी कम हो जाती है. लेकिन ओवेन के साथ ऐसा नहीं हुआ. उसकी जीभ सामान्य से कई गुना बड़ी और मोटी हो चुकी थी. जिसके बाद उसे भी ऑपरेशन से गुजरना पड़ा. जिसमें उसकी बढ़ी हुई 2 इंच जीभ ऑपरेशन के बाद निकाल दी गई.

बता दें कि ओवेन की मां थेरेसा का कहना है कि जब वो पैदा हुआ था, तभी उन्होंने डॉक्टरों से इस बारे में पूछा था. लेकिन डॉक्टरों ने छोड़ी मोटी बात मानते हुए उसे इग्नोर कर दिया था.लेकिन बाद में बीडब्ल्यूएस की समस्या डिटेक्ट हुई.

ओवेन को सांस लेने में दिक्कत होती थी, इसीलिए बार-बार उसका सांस फूलने लगता था. इसे मॉनीटर करने के लिए उसके माता-पिता डिजिटल मॉनीटर ले आए, जिसकी वजह से उसकी कई बार जान बची. हालांकि अब ओवेन का ऑपरेशन हो चुका है. लेकिन उसकी जीभ अब भी बढ़ सकती है. इसीलिए हर तीन महीने में उसकी नियमित तौर पर जांच की जाती है.

Back to top button
E-Paper