करण जौहर की पार्टी को लेकर NCB का खुलासा, जानिए क्या है वीडियो पूरा सच!

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही करण जौहर फैंस के निशाने पर आ गए थे। ऐसे में उनकी घर में हुई पार्टियों के वीडियो भी खूब वायरल होने लगे। जिसके बाद लोगों का कहना था कि करण जौहर की पार्टी में ड्रग्स लिए जा रहे हैं। लेकिन आज हम आपको बता दें कि करण जौहर के घर पिछले साल हुई पार्टी में किसी भी तरह के ड्रग्स का सेवन नहीं किया गया था। इस बात का दावा एनसीबी की फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट में किया गया है। करण जौहर ने पिछले साल एक पार्टी की थी जिसमें कई बॉलीवुड सितारे शामिल हुए थे। इस पार्टी का वीडियो सामने आने के बाद यह पार्टी लगातार सवालों के घेरे में रही थी।

करण जौहर की पार्टी में बॉलीवुड सितारों द्वारा ड्रग्स का सेवन करने के आरोप लगते रहे हैं। हालांकि उन्होंने हमेशा इन सभी आरोपों को गलत बताया। इसके बाद बीते दिनों एनसीबी ने करण जौहर की पार्टी के वीडियो की फॉरेंसिक जांच करने का निर्णय लिया, जिसमें अब पता चला है कि एजेंसी को उनकी पार्टी में किसी भी तरह के नशीले पदार्थ के होने पुष्टि नहीं हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एनसीबी ने गुजरात के गांधी नगर एफएसएल की रिपोर्ट में वायरल वीडियो में सफेद रंग की इमेज को महज रिफ्लेक्शन ऑफ लाइट यानी रोशनी की चमक बताया गया है। सूत्रों के मुताबिक एनसीबी को कोई संदिग्ध पदार्थ वीडियो में दिखाई नहीं दिया है और न ही पाया गया है। वीडियो में ड्रग्स जैसा कोई पदार्थ या अन्य सामग्री भी नहीं दिखी है। गौरतलब है कि नेता मनजिंदर सिंह सिरसा की शिकायत के बाद एनसीबी ने करण जौहर की पार्टी के वीडियो को फॉरेंसिक जांच की थी।

इससे पहले बीते दिनों दोबारा करण जौहर ने सोशल मीडिया पर बयान जारी करके इस पार्टी के बारे में सफाई दी थी। उन्होंने अपने बयान में कहा था, ‘मीडिया में ऐसी गलत खबरें फैलाई जा रही हैं कि एक पार्टी में ड्रग्स का सेवन किया गया था। 2019 में ही मैं ऐसे सभी आरोपों का खंडन कर चुका हूं। वर्तमान समय में दुर्भावनापूर्ण कैंपेन चलाया जा रहा है। यह आरोप पूरी तरह गलत और आधारहीन हैं। उस पार्टी में कोई ड्रग्स का सेवन नहीं हुआ था। मैं इस बारे में बात करना चाहता हूं कि मैं उन मादक पदार्थों का समर्थन नहीं करता हूं और न ही मैं इसका प्रचार करता हूं।’

करण जौहर ने अपने बयान में आगे कहा गया था, ‘ऐसे अपशब्दों और दुर्भावनापूर्ण बयानों, समाचार लेखों की वजह से मुझे, मेरे परिवार, मेरे सहयोगियों और धर्मा प्रोडक्शंस को घृणा और उपहास का पात्र बना दिया है।’ करण जौहर ने कहा कि ‘कई मीडिया चैनलों में बताया जा रहा है कि क्षितिज प्रसाद और अनुभव चोपड़ा मेरे सहयोगी/करीबी सहयोगी हैं। मैं बताना चाहता हूं कि मैं इन्हें व्यक्तिगत रूप से नहीं जानता। दोनों व्यक्तियों में से कोई भी सहायक या करीबी सहयोगी नहीं है। ना तो मैं और ना ही धर्मा प्रोडक्शंस, किसी के निजी जिंदगी के लिए जिम्मेदार नहीं हो सकते हैं कि वो क्या करते हैं।’

करण जौहर ने आगे कहा था, ‘मैं आगे यह बताना चाहता हूं कि अनुभव चोपड़ा धर्मा प्रोडक्शन के कर्मचारी नहीं हैं। वह नवंबर 2011 और जनवरी 2012 के बीच दो महीने के लिए एक फिल्म के सेकेंड असिस्टेंट डायरेक्टर और फिर जनवरी 2013 में शॉर्ट फिल्म के असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में हमारे साथ जुड़े थे। उसके बाद वह कभी भी धर्मा प्रोडक्शंस के साथ जुड़े नहीं रहे। क्षितिज रवि प्रसाद नवंबर 2019 में एक प्रोजेक्ट के लिए कार्यकारी निर्माता के पोस्ट पर धर्माटिक एंटरटेनमेंट में शामिल हुए थे लेकिन वो प्रोजेक्ट नहीं हुआ।’ करण जौहर ने कहा, ‘पिछले कुछ दिनों में, मीडिया ने गलत और झूठे आरोपों का सहारा लिया है। मुझे उम्मीद है कि मीडिया के सदस्य संयम बरतेंगे अन्यथा मेरे पास इस आधारहीन हमले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का सहारा लेना पड़ेगा।’

Back to top button
E-Paper