कानपुर मेडिकल कॉलेज की प्राचार्या ने कोरोना जमातियों को बताया आतंकवादी-देखे VIDEO

कानपुर मेडिकल कॉलेज की प्राचार्या ने कोरोना जमातियों को बताया आतंकवादी

  • वीडियो हुआ वायरल, पूर्व सांसद ने जांच कर कार्यवाही की उठायी मांग

कानपुर। गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (जीएसवीएम) की प्राचार्या का एक वीडियो रविवार को सोशल मीडिया में वायरल हो गया। वीडियो में प्राचार्या हैलट अस्पताल में भर्ती कोरोना पॉजिटिव जमातियों को आतंकवादी बता रही हैं। उनके खान-पान व पीपीई किट आदि को लेकर हो रहे खर्च को भी गलत बता रही हैं। इसके साथ ही तमाम अशोभनीय शब्दों का प्रयोग भी किया गया है। इस मामले को लेकर पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने मंडलायुक्त को वीडियो सौंप जांच कराकर कार्यवाही की मांग की है।

भारत की कम्यूनिस्ट पार्टी (एम) की पोलित ब्यूरो सदस्य व पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने एक वीडियो शेयर करते हुए कहा है कि इस वीडियो में कानपुर मेडिकल कालेज की प्रधानाचार्य प्रो. आरती लाल चंदानी बहुत ही असंवैधानिक और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए यह के रही है कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोग जो अस्पताल में लाए गए है वे आतंकवादी है। इसके साथ ही कहा कि उनका इलाज होना ही नहीं चाहिए। आगे वह समस्त अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ बोलते हुए उनको भी सरकारी मदद से वंचित रखने की बात कहती है।

सुभाषिनी अली ने जिला प्रशासन से मांग की है कि इस वीडियो की जांच की जाए और अगर वह वैध पाई जाती है तो प्रधानाचार्य को तुरंत पद से हटाकर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए। इस तरह की भाषा का उपयोग करके उन्होंने संविधान का उल्लंघन किया है और अपने डाक्टर बनने के समय लिया गया वचन को तोड़ा है। इस संबंध में पूर्व सांसद ने मंडलायुक्त डा. सुधीर एम बोबड़े को सूचित कर कार्यवाही की मांग की है। बताते चलें कि प्राचार्या ने बीते दिनों जमातियों के इलाज के दौरान एक वीडियो जारी कर बयान दिया था कि जमाती मेडिकल टीम को परेशान कर रहे हैं और जमातियों पर तमाम प्रकार के आरोप लगाये थे। इस पर समाजसेवियों ने तंज कसा था कि प्राचार्या को ऐसी बयानबाजी से बचना चाहिये था।

Back to top button
E-Paper