क्रिकेटर नहीं होते तो पेट्रोल पंप पर काम करते हार्दिक

मुम्बई (ईएमएस)। टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या क्रिकेटर बनने के बाद आज आलीशान जिंदगी बिता रहे हैं पर उनका बचपन कठिन हालातों में बीता है। आज हार्दिक और उनके भाई कुणाल एक सफल क्रिकेटर हैं। यह भाई टीम इंडिया के अलावा आईपीएल में भी खेलते हैं। हार्दिक ने अपने संघर्ष को लेकर कहा, क्या हो रहा है यह समझने के लिए आपको एक मजबूत दिमाग की जरूरत है। मैं और कुणाल बहुत मजबूत थे, इसलिए हम इस तथ्य को स्वीकार करने में सक्षम थे कि पैसा है, हालांकि हम यह तय करते हैं कि हम हमेशा जमीन पर ही रहें। कभी-कभी ऐसा लग सकता है कि मैं हवा में उड़ रहा हूं और मुझे पता है कि दिन के अंत में मेरे पैर हमेशा जमीन पर होते हैं। पैसा अच्छा है भाई। यह बहुत कुछ बदलता है पर मैं उन लोंगों में से नहीं हूं। अगर मैं क्रिकेटर नहीं होता तो मैं किसी पेट्रोल पंप पर काम करता। मैं मजाक नही कर रहा। मेरे लिए मेरा परिवार प्राथमिकता थी, यह सुनिश्चित करने के लिए कि मेरे परिवार का जीवन अच्छा हो।

इस खिलाड़ी ने इस बात का भी खुलासा किया कि कैसे किसी खिलाड़ी को क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करने के लिए पैसा बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा, इससे खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करने के लिए भावुक हो जाते हैं क्योंकि यह राशि उनके परिवारों के जीवन को बदल देती है। साथ ही कहा कि आज बहुत से लोग क्रिकेट भी नहीं खेल रहे होते , यदि इसमें इतना पैसा शामिल नहीं रहता।

Back to top button
E-Paper