जलेसर में डेंगू से बच्चे की मौत, नहीं थम रहा मौतों का सिलसिला

एटा/जलेसर । जनपद के जलेसर क्षेत्र में डेंगू का प्रकोप दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। तहसील क्षेत्र के दर्जनों गांव डेंगू की चपेट में आ चुके हैं। जहां कई दर्जन लोग अकाल मौत का शिकार हो गए हैं। वहीं शुक्रवार को जलेसर के गांव अरबगढ़ में डेंगू से एक 5 वर्ष के बच्चे की मौत हो गई। जबकि गांव महानमई में बीते एक सप्ताह में भाई बहन सहित चार लोगों की मौत हो चुकी है। जलेसर क्षेत्र में डेंगू निरंतर बढ़ता जा रहा है। सरकारी स्वास्थ्य सेवा के रात दिन की जुटी रहने के बावजूद डेंगू पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है । शुक्रवार को क्षेत्र के गांव अरबगढ़ में डेंगू से 5 वर्षीय अंकित पुत्र रामगोपाल की आगरा में उपचार के दौरान मौत हो गई। बताया गया है कि अंकित बीते चार-पांच दिन से बीमार चल रहा था। जिसका उपचार जलेसर के एक प्राइवेट अस्पताल में चल रहा था।

बच्चे की हालत गंभीर होने पर गुरुवार को उसे आगरा के एक निजी अस्पताल में रेफर किया गया था। जहां शुक्रवार को सुबह बच्चे की मौत हो गई। बच्चे की मौत के बाद परिवार तथा समूचे गांव में कोहराम मच गया है। वहीं क्षेत्र के गांव महान मई में भी डेंगू का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। गांव के 80 फ़ीसदी घरों में चारपाई बिछी हुई है। गुरुवार को गांव के की 19 वर्षीया नीरज पुत्री देवेंद्र सिंह की डेंगू से मौत हो गई। जबकि एक दिन पूर्व मृतका के चचेरे भाई 22 वर्षीय धर्मेंद्र पुत्र राजेंद्र सिंह की उपचार के दौरान नोएडा के एक हॉस्पिटल में मौत हो गई थी।ग्रामीणों ने बताया कि इससे एक दिन पूर्व गांव के 23 वर्षीय अक्कू पुत्र अमर सिंह की मौत हो गई थी ।और उससे दो दिन पूर्व गांव के ही सतीश पुत्र रामजीलाल की भी मौत हो गई। एक सप्ताह में लगातार हुई 4 मौतों से ग्रामीण पूरी तरह से कप कपा गए हैं।

गांव में डेंगू महामारी का रूप ले चुका है। वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा भी गांव में शिविर लगाकर लोगों को उपचार दिया जा रहा है। मगर लोगों के लिए यह सरकारी स्वास्थ्य सेवा नाकाम साबित हो रही है। ग्रामीणों के अनुसार गांव में करीब 70-80 डेंगू के मरीज हैं। जिनमें से लगभग 2 दर्जन से अधिक मरीजों का उपचार दिल्ली आगरा मैं चल रहा है। जबकि अन्य गरीब तबके के मरीजों का उपचार जलेसर तथा क्षेत्र के झोलाछाप चिकित्सकों के यहां चल रहा है।

Back to top button
E-Paper