नेपाली युवा मिटा रहे सैकड़ों कामगारों की भूख

नबी अहमद

रूपईडीहा/बहराइच। हजारों की संख्या मे भारत के विभिन्न शहरों मे अपने देश लौट रहे नेपाली कामगारों को नेपाल के युवकों ने प्रशंसनीय काम करना शुरू किया है। नेपाली युवा इन भूखे प्यासे नेपाली कामगारों को भारतीय सीमा से सटे नेपाली थाना जमुनहां मे ही भोजन करा रहे है। बांके जिला प्रशासन के अनुसार रूपईडीहा जमुनहां बार्डर से अब तक 15 हजार नेपाली युवा नेपाल पहुंच चुके है। अभी भी यह ताता नही टूट रहा है।

भोजन कराने का नेतृत्व संभाल रहे नेपालगंज बुद्धदय यूथ क्लब के समन्वय मे कैप्टन विजय लामा, नायिका नम्रता श्रेष्ठ, नायक करमा, मीन बहादुर भीम व पुकार बम सहित नेपाल के प्रतिष्ठित कलाकार भी इस पुनीत कार्य मे जुड़ गये है। अभियान के संयोजक आतक बस्नेत ने बताया कि रोजगार के लिए नेपाल से भारी संख्या मे भारत गये मजदूर अब वापस लौट रहे है। इनमे अधिकांश नेपाली कर्णाली प्रदेश के है। प्रमुख रूप से इनमे बांके, बर्दिया, दांग, कैलाली व कंचनपुर के ही है। संयोजक बस्नेत ने यह भी बताया कि भूख प्यास से व्याकुल भारत से लौटे नेपाली कामगारों की खबरे मीडिया द्वारा प्राप्त हुई। इसी को लेकर हम लोगों ने यह अभियान शुरू किया है। यह अभियान एक सप्ताह तक चलेगा।

क्लब के सचिव कविराज रम्तेल के नेतृत्व मे नेपाली कामगारों को भोजन कराने की व्यवस्था चल रही है। उन्होने बताया कि भारत से नेपाली श्रमिकों की भीड़ इस बार्डर पर दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। जो स्थानीय प्रशासन के लिए चुनौती बन गयी है। नेपाल मे भी कोरोना संक्रमण की दर दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। कुछ दिन पूर्व तक भारत से जा रहे नेपाली कामगारों का स्वास्थ्य परीक्षण कर नेपाल प्रवेश दिया जा रहा था। भारी भीड़ के कारण अब यह स्वास्थ्य परीक्षण भी धीरे धीरे हो रहा है।

Back to top button
E-Paper