पिता की जेब से एक पर्ची पा गई बेटी, पढ़ते ही वो हो गई बेहोश

भारत एक ऐसा देश है जहां अंधविश्‍वास और जादू टोने को लेकर कई सारी धारणाएं हमेशा ही बनी रहती है वहीं आपको ये भी बता दें कि लोग इसपर इतना विश्‍वास करते हैं कि कुछ भी करने को तैयार हो जाते है। धर्म और अंधविश्‍वास का ये चक्र ऐसा है की जो एकबार फंस गया उसका निकलना असंभव हो जाता है। आज हम आपको एक एेसा ही मामला बताने जा रहे हैं जो बेहद ही हैरान कर देने वाला है। अंधविश्वास वह विचार पद्धति है जिसे आमतौर पर धर्मशास्त्रीय तथा बुर्जुआ साहित्य में सच्ची आस्था के मुकाबले रखा जाता है जो आदिम जादू से जुड़ा होता है।

कई लोग आज भी इस समाज में ऐसे हैं जो जादू टोने पर इतना ज्यादा विश्वास करते है कि अपनी जिंदगी ही खराब कर लेते है। जादू-टोना, शकुन, मुहूर्त, मणि, ताबीज आदि अंधविश्वास की ही देन हैं। इन सबके अंतस्तल में कुछ धार्मिक भाव हैं, परंतु इन भावों का विश्लेषण नहीं हो सकता। इनमें तर्कशून्य विश्वास है। मध्य युग में यह विश्वास प्रचलित था कि ऐसा कोई काम नहीं है जो मंत्र द्वारा सिद्ध न हो सकता हो।

हाल ही में हुई इस घटना में भी कुछ ऐसा ही हुआ। दरअसल एक व्यक्ति की मौत होने पर उसके घर वालो ने उसका दाह संस्कार कर दिया लेकिन जब उस व्यक्ति की लड़की अपने पिता के कपडे धोने के लिए बैठी तो वह बहुत ही हैरान हो गई क्‍योंकि उस व्‍यक्‍ति की जेब में एक ऐसी पर्ची मिली थीं जिसे पढ़ते ही वो सन्‍न रह गई।

हैरानी की बात तो ये थीं की जिस इंसान की मृत्‍यु हुइ थी उसकी मौत का मामला भी अंधविश्‍वास से ही जुडा हुआ था। दरअसल आपको बता दें कि पर्ची किसी तांत्रिक द्वारा दी गई थीं जिसपर लिखा हुआ था की जमीन में यदि गडा हुआ सोना चाहिए तो दिगंबर को किसी रिश्तेदार की हत्या करवानी पड़ेगी इतना ही नहीं इस व्‍यक्‍ति ने तांत्रिक की बात को मानते हुए अपने ही चचेरे भाई की बलि दे दी लेकिन अफसोस की उस पर्ची की वजह से सारा पोल खुल गया और फिर उस परची के मिलने पर मामला पुलिस के पास गया जिसके बाद तांत्रिक व उसके भाई को गिरफ्तार कर लिया गया है।

फिल्‍हाल पुलिस इस मामले की जांच कर रही है, जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। वहीं पुलिस का ये भी कहना है कि कुछ लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है वन्ही उनके परिजनों का कहना है कि हमने कभी सोचा भी नहीं था कि कोई भी व्यक्ति धन के लालच में ऐसा घिनौना अपराध भी कर सकता है वहीं इसके लिए कोई अपने ही भाई की जान भी ले सकता है।

Back to top button
E-Paper