पिल्‍स खाना फौरन कर दें बंद, लाख गुना बेहतर हैं ये प्राकृतिक गर्भनिरोधक

किसी लड़की या महिला के लिए मां बनना संसार का सबसे बड़ा अनुभव होता है | लेकिन आजकल करियर बनाने और करियर में बढ़ती प्रतिस्‍पर्धा और एक मुकाम तक पहुंचने की होड़ में के कारण महिलाएं माँ बनने की जिम्‍मेदारी दूर हो रही है |

वजह साफ है, घर, परिवार और बच्‍चे की जिम्‍मेदारी को निभाते हुए नौकरी में कामयाबी की सीढ़‍ियां चढ़ना पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के लिए ज्‍यादा चुनौतीपूर्ण होता है | और इसी वजह के कारण शादी के कुछ साल तक आजकल लड़कियां बच्‍चे को जन्‍म नहीं देना चाहतीं | लेकिन इसके लिए बार-बार अबॉर्शन कराना या पील्‍स खाना तर्कसंगत नहीं है, सेहत पर इसके नकारात्‍मक असर होते है |

लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे प्राकृतिक गर्भनिरोधक के बारे में बतायेगे | जिनके बारे में कहा जाता है कि ये पिल्‍स से कहीं ज्‍यादा कारगर है | हालांकि इनको मानने और इस्तेमाल से पहले आप डॉक्टर से सलाह जरूर लें |

पपीता : आपने अक्‍सर डॉक्‍टर्स और बड़े बुजुर्गों से सुना होगा कि प्रेग्‍नेंसी में पपीता नहीं खाना चाहिए | खासतौर से शुरुआती तीन महीनों में तो बिल्‍कुल नहीं, इसे खाने से गर्भ रुकता नहीं है | अगर आप पि‍ल्‍स नहीं खाना चाहतीं हैं तो अपने खाने में रोजाना पपीता को शामिल कर लें |

अनानास : प्रेग्‍नेंसी में अनानास खाने की भी मनाही होती है, इसमें कुछ ऐसे तत्‍व पाए जाते हैं, जिनकी वजह से यह प्राकृतिक गर्भनिरोधक का काम करता है |

कच्‍चा दूध : कच्‍चा दूध भी गर्भनिरोधक दवाओं का काम करता है, आप इसे सोने से पहले या सुबह-सुबह पी लें |

मछली : प्रेग्‍नेंसी में मछली खासतौर से मरकरी वाली जैसे कि स्‍वॉर्डफिश खाने की मनाही होती है, कहा जाता है कि इसमें पाई जाने वाली मरकरी गर्भनिरोधक का काम करती है |

चीज़ : ऐसा कहा जाता है कि अनपाश्‍चुराइज्‍ड मिल्‍क से बना चीज भी प्राकृतिक गर्भनिरोधक का काम करता है |

Back to top button
E-Paper