बच्चे को जन्म देने के आधे घंटे बाद ही धंधे पर लौट आई ये वैश्या, फिर जो हुआ वो रुलाने वाला

समाज से अलग-थलग पड़ चुकी सेक्स वर्कर्स की जिंदगी दुनिया में काफी दयनीय है. उनका जीवन एक ऐसे दलदल में फंस चुका है जहाँ से वापस आना अब करीब-करीब नामुमकिन सा लगता है. अपना जीवन चलाने और पैसे कमाने के लिए जो वैश्याएं अपना जिस्म कई बार निलाम करती हैं उनके जीवन में एक वो दौर भी आता है जब उनकी यौवन ढलने लगती हैं. जिसके चलते वो फिर अपना जीवन चलाने और पैसों के लिए मोहताज हो जाती हैं. ऐसे ही एक सेक्स वर्कर की दुखद कहानी आज हम आपको सुनाने जा रहे है जिसमें एक सेक्स वर्कर अपने धंधे के चलते पहले तो गर्भवती हो जाती है और फिर उसके बाद कुछ पैसों के लिए डिलीवरी के अाधे घंटे बाद ही अपने काम पर लौट जाती है. जहाँ उसके ग्राहक उसका जो हाल करते हैं उसे देख आपकी रुह तक कांप जायेगी.

जब बच्चे को जन्म देने के आधे घंटे बाद ही जिस्म बेचने निकल गई ये वैश्या

बच्चे को जन्म देते वक्त एक महिला किस प्रक्रिया से गुजरती है इसके अंदाजा ही लगाने से हमारी सांस फूल जाती है. लेकिन जरा सोचिए क्या होगा उस महिला का जो अपने बच्चे को जन्म देने के महज आधे घंटे बाद ही अपने काम पर लौट जाती है. जहाँ जिस्म के भूखे हैवान उसके साथ ऐसी हैवानियत दिखाते है जिसे देख कोई भी शर्म से पानी-पानी हो जाए. सेक्स वर्कर की मजबूरी को छोड़ उसके ग्राहक उसके साथ हैवानियत दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं. इस बात का खुलासा जब एक पुलिस कम्युनिटी सपॉर्ट ऑफिसर ने किया तो सबकी आँखों से आंसू निकल गये.

पैसों की कमी को पूरा करने के चलते महिलाएं बनती है सेक्स वर्कर

दरअसल, ब्रिटेन के हल्स हैजल रोड पर करीब 40 सेक्स वर्कर्स रहती हैं. जिनके पास 17 साल से लेकर 80 साल तक के हजारों मर्द रोज आते है. वहां के फेयरबैंक्स ब्रिटेन पिछले 10 सालों से हालातों की मारी उन सभी सेक्स वर्कर्स की मदद करते आए है. हाल ही में उन्होंने ही एक इंटरव्यू में उन सेक्स वर्कर्स की जिंदगी को सांझा करते हुए कहा कि “ये महिला पैसों की मजबूरी के खातिर बच्चे को जन्म देकर आधे घंटे में ही काम पर वापस आ गई थी. ऐसी कई और भी महिलाएं हैं जो मानसिक बीमारियों के चलते पैसे कमाने में लगी हुई हैं.”

वैश्याओं का दुख ग्राहकों को नहीं दिखता

उन्होंने वैश्याओं की दर्दनाक कहानी दुनिया से बताते हुए कहा कि, “इन महिलाओं की मजबूरी किसी ग्राहक को नहीं दिखाई देती है और वो मजबूरी का फायदा उठाते हैं. ऐसी ही इस महिला भी कहानी थी जिसने डिलीवरी के बाद किसी दर्द की चिंता न करते हुए आधे घंटे में काम पर वापस आ जाती है.”

Back to top button
E-Paper