मणिपुर में छुट्टी पर आए सेना के जवान की हत्या:तीन हथियारबंद बदमाशों ने घर से अगवा किया, फिर…

मणिपुर की राजधानी इंफाल में पूर्वी जिले के खुनिंगथेक गांव में रविवार 17 सितंबर को सेना के एक जवान का शव मिला। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक तीन हथियारबंद बदमाशों ने शनिवार सुबह करीब 10 बजे छुट्टी पर आए एक सिपाही को उसके घर से अगवा किया। फिर सिर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी।

मृतक जवान की पहचान सेर्टो थांगथांग कोम के रूप में हुई है। वो इंफाल पश्चिम के तरुंग के रहने वाले थे। उनकी पोस्टिंग मणिपुर के ही कांगपोकपी जिले के लीमाखोंग में सेना की डिफेंस सिक्योरिटी कॉर्प्स (DSC) प्लाटून में सिपाही के तौर पर थी।


जवान के बेटे ने बताई आंखोंदेखी

पुलिस अधिकारी ने बताया कि अपहरण की घटना के दौरान जवान का 10 साल का बेटा वहां पर मौजूद था। उसने बताया कि जब वो और उसके पिता बरामदे में काम कर रहे थे, तब तीन लोग उनके घर में दाखिल हुए थे। हथियारबंद लोगों ने जवान के सिर पर पिस्तौल रख दी और उसे एक सफेद गाड़ी में जबरदस्ती डालकर ले गए।

पुलिस अधिकारी ने आगे बताया कि रविवार सुबह तक जवान की कोई खबर नहीं थी। सुबह 9:30 बजे के आसपास उसका शव इंफाल पूर्व में खुनिंगथेक गांव में मिला। उसके भाई और बहनोई ने उसकी पहचान की। उन्होंने बताया कि जवान के सिर पर एक गोली का घाव था।

मृतक जवान के परिवार में उसकी पत्नी, बेटी और बेटा हैं। अधिकारियों का कहना है कि जवान का अंतिम संस्कार परिवार की इच्छा के अनुसार किया जाएगा। सेना ने परिवार की मदद के लिए एक टीम भी भेजी है।

मणिपुर में अब तक 175 की मौत, 1108 जख्मी
मणिपुर में मैतेई और कुकी समुदाय के बीच 3 मई से हो रही हिंसा में अब तक 175 लोगों की मौत हो चुकी हैं। राज्य में 1108 लोग घायल हैं, 32 अभी भी लापता हैं, जबकि 96 लावारिस लाशें शवगृह में रखी हैं।

इंफाल में शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान IGP (ऑपरेशंस) आईके मुइवा ने ये जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मणिपुर के इस चुनौतीपूर्ण समय में हम नागरिकों को विश्वास दिलाते हैं कि पुलिस, सुरक्षा बल और राज्य सरकार 24 घंटे उनकी सुरक्षा में लगे हुए हैं।


सितंबर में अब तक 4 बार हो चुकी हिंसा…

6 सितंबर : हजारों प्रदर्शनकारी बिष्णुपुर जिले के फौगाकचाओ इखाई में इकट्ठा हुए थे। वे सभी तोरबुंग में अपने सूने पड़े घरों तक पहुंचने के लिए सेना के बैरिकेड्स को तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। इसके बाद एहतियात के तौर पर मणिपुर के सभी पांच घाटी जिलों में कर्फ्यू लगा दिया गया था।

7 सितंबर : सितंबर में मणिपुर में अब तक तीन बार हिंसा की खबर सामने आई है। पहली घटना मणिपुर के तेंगनौपाल जिले के पैलेल में ​​​​​​हुई थी। यहां फायरिंग की दो अलग-अलग घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गई थी। वहीं 50 अन्य घायल हो गए। घायलों में सेना का एक मेजर भी शामिल है।

12 सितंबर : दूसरी घटना 12 सितंबर को हुई। कांगचुप इलाके में कुकी-जो समुदाय के गांव के तीन लोगों की हत्या एंबुश लगाकर कर दी गई थी।

13 सितंबर : चुराचांदपुर जिले में एक पुलिस सब इंस्पेक्टर की हत्या कर दी गई। मृतक सब इंस्पेक्टर की पहचान ओनखोमांग हाओकिप (45) के तौर पर की गई है। अधिकारियों के मुताबिक जब हमला हुआ, तब ये सब इंस्पेक्टर हाओकिप एन चिंगफेई में तैनात थे। इसी हमले में पास में ही खड़े दो और लोगों को भी गोली लगी है। अभी तक उनकी पहचान नहीं हो सकी है।

 
4 पॉइंट्स में जानिए क्या है मणिपुर हिंसा की वजह…

मणिपुर की आबादी करीब 38 लाख है। यहां तीन प्रमुख समुदाय हैं- मैतेई, नगा और कुकी। मैतई ज्यादातर हिंदू हैं। नगा-कुकी ईसाई धर्म को मानते हैं। ST वर्ग में आते हैं। इनकी आबादी करीब 50% है। राज्य के करीब 10% इलाके में फैली इम्फाल घाटी मैतेई समुदाय बहुल ही है। नगा-कुकी की आबादी करीब 34 प्रतिशत है। ये लोग राज्य के करीब 90% इलाके में रहते हैं।

कैसे शुरू हुआ विवाद: मैतेई समुदाय की मांग है कि उन्हें भी जनजाति का दर्जा दिया जाए। समुदाय ने इसके लिए मणिपुर हाईकोर्ट में याचिका लगाई। समुदाय की दलील थी कि 1949 में मणिपुर का भारत में विलय हुआ था। उससे पहले उन्हें जनजाति का ही दर्जा मिला हुआ था। इसके बाद हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से सिफारिश की कि मैतेई को अनुसूचित जनजाति (ST) में शामिल किया जाए।

मैतेई का तर्क क्या है: मैतेई जनजाति वाले मानते हैं कि सालों पहले उनके राजाओं ने म्यांमार से कुकी काे युद्ध लड़ने के लिए बुलाया था। उसके बाद ये स्थायी निवासी हो गए। इन लोगों ने रोजगार के लिए जंगल काटे और अफीम की खेती करने लगे। इससे मणिपुर ड्रग तस्करी का ट्राईएंगल बन गया है। यह सब खुलेआम हो रहा है। इन्होंने नागा लोगों से लड़ने के लिए आर्म्स ग्रुप बनाया।

नगा-कुकी विरोध में क्यों हैं: बाकी दोनों जनजाति मैतेई समुदाय को आरक्षण देने के विरोध में हैं। इनका कहना है कि राज्य की 60 में से 40 विधानसभा सीट पहले से मैतेई बहुल इम्फाल घाटी में हैं। ऐसे में ST वर्ग में मैतेई को आरक्षण मिलने से उनके अधिकारों का बंटवारा होगा।

सियासी समीकरण क्या हैं: मणिपुर के 60 विधायकों में से 40 विधायक मैतेई और 20 विधायक नगा-कुकी जनजाति से हैं। अब तक 12 CM में से दो ही जनजाति से रहे हैं।

Back to top button