मीटर रीडरों ने की हड़तान, वेतन का भुगतान न करने तक कार्य वहिष्कार की दी चेतावनी

एटा/जलेसर।विद्युत विभाग एटा से आए बिलिंग एजेंसी सर्किल इंचार्ज आशीष पटेल के आते ही मीटर रीडर कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन कर अपनी मांगों को रखा। जिसमे नयी कंपनी कर रही है मीटर रीडर का शोषण। लेवर एक्ट के तहद नही मिल रही तन्खा। पुरानी सैलरी 2 माह की पेंडिंग है। वह जब तक नही आती है मीटर रीडर अगले माह बिलिंग नही करगे।नयी कम्पनी टेरा सॉफ्टवेयर में बिलिंग बड़ा दी है पहले रूलर 1360 पर तन्खा 6900 आती थी। पर अब नयी कंपनी के द्वारा 1800 बिलिंग करनी है एवं 200 बिल जमा करने पर तन्खा मात्र 8000 रूपए रखी गयी है। जबकी टाउन एरिया मै पहले बिल 1880 पर 6900 रूपए तन्खा आती थी जबकी नयी कम्पनी मै 2200 बिल ओर 300 बिल जमा करने पर तन्खा 9000 की गयी है। 5000 रुपये प्रिन्टर सिक्योटी जमा करनी है।

बिल जमा करने के लिए मीटर रीडर को कम से कम 10000 रुपये वॉलिड मै रखने होंगे। जिससे साइड पर उपभोगता से बिल जमा कर रसीद देने का काम ओर बढ़ा दिया । मीटर रीडर निसार अहमद ने बताया थे उन्होंने माह अप्रैल 2021 को प्रिंटर सिक्योरिटी के लिए एटा ऑफिस पर अपना प्रिंटर जमा कर दिया था लेकिन आज तक सितंबर 2021 तक अभी कंपनी द्वारा कोई भी सिक्योरिटी वापस नहीं की गई है इसी वजह से बाकी के मीटर रीडर कर्मचारी अपने प्रिंटर कंपनी को वापस नहीं कर रहे हैं। मीटर रीडरों का कहना है। कि अगर हमने अपने प्रिंटर जमा भी कर दिए तो सिक्योरिटी वापस कराने की जिम्मेदारी कौन लेगा क्योंकि पुरानी कंपनी का टेंडर महा सितंबर 2021 में ही खत्म हो गया है।सर्किल इंचार्ज आशीष पटेल के सामने मीटर रीडरों द्वारा यह समस्या रखी तो उन्होंने साफ कह दिया कि यह सब मे नही जानता।काम करना है तो जो में नियम बता रहा हूँ। उन्ही के अनुसार कार्य करना होगा।इस कारण मीटर रीडर धरने पर बैठे हुए है।

सर्किल इंचार्ज आशीष पटेल ने मीटर रीडर कर्मचारियों को आश्वासन की जगह ना काम करने की दी हिदायत।

मीटर रीडर कर्मचारियों ने जब आशीष पटेल के सामने नई कंपनी के शोषण एवं कम सैलरी की बात कही तो उन्होंने मीटर रीडर को आश्वासन की जगह रीडिंग ना करने की सलाह देकर वहां से चले गए जिससे मीटर रीडर कर्मचारियों का गुस्सा और भड़क गया उन्होंने एसडीओ हरि ओम सोनी से कहा कि जब तक हमारी समस्या का समाधान नहीं होता तब तक ना ही कोई कर्मचारी रीडिंग करेगा और ना ही कोई अन्य कार्य करेगा।

Back to top button
E-Paper