योगी सरकार की इन्सेफेलाइटिस पर नकेल कसने की तैयारी, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

लखनऊ। मानसून आने को है, ऐसे में मौसमी और मच्छर जनित बीमारियों को लेकर मुख्यमंत्री ने सभी अधिकारियों को अलर्ट मोड में रहने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियों की रोकथाम के पुख्ता इंतजाम किए जाएं। सभी अस्पतालों में इन्सेफलाइटिस, डेंगू, मलेरिया जैसी अन्य मच्छर जनित बीमारियों की जांच की व्यवस्था की जाए। जिससे संचारी रोगों का पूर्ण रूप खात्मा यूपी में किया जा सके। उन्होंने सभी अस्पतालों में इलाज के मुकम्मल इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में कोरोना की रोकथाम के लिये भी इन्सेफलाइटिस मॉडल के आधार पर काम करने के निर्देश अधिकारियों को दिये थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संचारी रोगों की रोकथाम के लिये विशेष रूप से सर्विलांस व्यवस्थाओं को और बेहतर करने, स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ ग्राम्य विकास विभाग और बाल विकास पुष्टाहार आदि विभागों से एक्टिव रहने को कहा है। उन्होंने कहा है कि बरसात का मौसम शुरू हो रहा है। इस समय इन्सेफलाइटिस जैसी जल जनित बीमारियों के प्रसार का खतरा है। ऐसे में हमको बिना देरी किए बीमारी से बचाव और रोकथाम के काम तेज करने होंगे। इंसेफेलाइटिस उन्मूलन के लिये सीएम योगी ने स्वास्थ्य, शिक्षा, ग्रामीण विकास, पंचायती राज, महिला एवं बाल कल्याण आदि विभागों को जोड़ने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने आशा बहुओं, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, एएनएम, ग्राम प्रधानों से कहा है कि वे लोगों को इन्सेफलाइटिस से बचाने के प्रति जागरूक करने की जिम्मेदारी तय करें।

इन्सेफेलाइटिस की रोकथाम के इसी मॉडल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना महामारी को जड़ से खत्म करने के लिये प्रयोग किया और उसके सफल परिणाम सामने आए। देश के अन्य राज्यों के मुकाबले सबसे कम समय में उत्तर प्रदेश कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को मात देने में सफल साबित हुआ।

बॉक्स: इंसेफेलाइटिस उन्मूलन को शीर्ष प्राथमिकता पर

मार्च 2017 में सरकार संभालते ही योगी आदित्यनाथ ने इन्सेफलाइटिस के उन्मूलन को अपनी शीर्ष प्राथमिकता पर रखा। बीमारी को जड़ से मिटाने के संकल्प को लेकर उन्होंने यूपी के गांव-गांव में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूती के साथ शुरू किया। स्वच्छता, शुद्ध पेयजल और जागरूकता बीमारी को समाप्त करने में मजबूत हथियार बने। इसी ध्येय को पूरा करने के लिये उन्होंने इलाज के मुकम्मल इंतजाम की ऐसी व्यवस्था बनाई कि मरीज को समुचित इलाज गांव के पास ही मिलना संभव हुआ। इस कड़ी में उन्होंने सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को इंसेफेलाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर के रूप में विकसित कर इलाज की सभी सुविधाएं सुनिश्चित कराई। उन्होंने गांव-गांव शुद्ध पेयजल और हर घर में शौचालय का युद्ध स्तरीय कार्य शुरू कराया। सीएम योगी की ओर से इंसेफेलाइटिस उन्मूलन का संकल्पित कार्यक्रम लागू करने का परिणाम रहा कि पिछले सालों के मुकाबले बीमारियों को पनपने का यूपी में मौका ही नहीं मिला।

Back to top button
E-Paper