लखीमपुर में किसानों के लिए अंतिम अरदास : प्रियंका लखनऊ से रवाना, 13 जिलों में पुलिस अलर्ट

लखीमपुर हिंसा के दौरान मारे गए चार किसानों की आत्मा की शांति के लिए मंगलवार को तिकुनिया में अंतिम अरदास है। घटनास्थल से करीब एक किमी की दूरी पर 30 एकड़ भूमि पर इसके लिए इंतजाम किया गया है। कार्यक्रम में यूपी के अलावा पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और छत्तीसगढ़ से करीब 50 हजार किसानों के आने की संभावना है।

अरदास में शामिल होने के लिए कई सियासी नेता भी पहुंचेंगे। प्रियंका गांधी लखीमपुर निकल चुकी हैं। जयंत चौधरी भी आ रहे हैं। हालांकि संयुक्त मोर्चा ने ऐलान किया है कि अरदास कार्यक्रम के मंच पर कोई सियासी नेता नहीं बैठेगा। जो भी नेता इस कार्यक्रम में आएगा वह पब्लिक के साथ बैठेगा।

भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के प्रवक्ता राकेश टिकैत सोमवार की रात में ही कार्यक्रम स्थल पहुंच चुके हैं। श्रद्धांजलि सभा में किसान जुटने लगे हैं। यहां कौड़ियाला घाट गुरुद्वारा में रविवार से ही अखंड पाठ चल रहा है। कार्यक्रम की सुरक्षा व्यवस्था को परखने के लिए विशेष पुलिस जांच कमेटी के DIG उपेंद्र अग्रवाल, DM अरविंद चौरसिया और SP विजय ढुल ने कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया।

  • कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लखनऊ से लखीमपुर के लिए रवाना हो गई हैं। उनके साथ दीपेंद्र हुड्‌डा भी हैं।
  • RLD अध्यक्ष जयंत चौधरी को बरेली एयरपोर्ट पर करीब एक घंटे नजरबंद कर रखा गया। बाद में जाने की परमिशन मिली है।

पहले शबद कीर्तन फिर लोग देंगे श्रद्धांजलि

राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय सिख संगठन जसवीर सिंह ने बताया कि अंतिम अरदास की पूरी तैयारी कर ली गई है। आज सुबह 10 बजे से शुरू होने वाले कार्यक्रम में सबसे पहले शबद कीर्तन होंगे। इसके बाद किसान नेता शहीद किसानों को श्रद्धा सुमन अर्पित कर अपनी-अपनी बात रखेंगे। अंतिम अरदास में शामिल होने के लिए सोमवार रात से ही राकेश टिकैत, जोगेंदर सिंह और सरिता समेत कई किसान नेताओं का यहां आना शुरू हो गया है।

लोगों की संख्या को देखते हुए घटनास्थल से 500 मीटर दूर कक्कड़ फार्म हाउस पर दूसरे प्रदेश से आ रहे किसानों के रुकने का इंतजाम किया गया है। इसके लिए यहां करीब 30 एकड़ धान की फसल को कटवाकर टेंट लगवा दिया गया है।
गुरुद्वारे के साथ-साथ कई जगह चलेगा लंगर

राम सिंह ढिल्लन ने बताया कि कक्कड़ फार्म हाउस पर किसानों के रुकने और लंगर की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही लखीमपुर आने जाने वाले रास्तों पर भी लंगर की व्यवस्था की गई है। दूर से आने वाले किसानों के लिए लंगर के लिए गुरुद्वारे में सुबह आठ बजे से व्यवस्था की गई है।

13 जिलों में पुलिस अलर्ट
शहीद किसानों की अंतिम अरदास में बड़ी संख्या में किसानों के जुटने की संभावना है। इसे देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने 13 जिलों में 20 वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की अगुआई में पुलिस बल को तैनात किया है। ये किसानों की पल-पल की गतिविधियों पर नजर रखेंगे। साथ ही कानून व्यवस्था को हाथ में लेने वालों पर सख्त कार्रवाई करेंगे। इसके लिए उन्हें अपने-अपने जिलों में कैंप करने के आदेश दिए गए हैं।

लखीमपुर में 10 IPS तैनात, चप्पे-चप्पे पर फोर्सशासन ने लखीमपुर में 10 आईपीएस ऑफिसर अलग से लगाए हैं। इसके अलावा अर्ध सैनिक बलों और पीएसी को मुस्तैद किया गया है। कोई अप्रिय घटना और किसान व भाजपा नेताओं के बीच टकराव की स्थित किसी भी दशा में उत्पन्न न हो इसके लिए जवानों की तैनाती की गई है। । वहीं लखीमपुर आने वाले रास्तों पर बैरियर लगाकर वाहनों की चेकिंग की जा रही है।

Back to top button
E-Paper