विष्णु पूजा के दौरान जिसने की ये गलती, वो कंगाल रहेगा पूरी जिंदगी

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार इस दुनियां में तीन लोग ‘ब्रह्मा, विष्णु, महेश’ सबसे ज्यादा शक्तिशाली माने जाते हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि यदि आप ने इन तीनो में से किसी एक देवता को भी प्रसन्न कर दिया तो समझों आपकी लाइफ की लगभग सभी परेशानियां स्वतः ही समाप्त हो जाएगी. ब्रह्मा, विष्णु और महेश में से विष्णु और महेश (शिवजी) को सबसे अधिक पूजा जाता हैं. शिवजी की पूजा से सम्बंधित नियम कायदे तो आप ने कई बार पढ़े और सुने होंगे. लेकिन विष्णु भगवान की पूजा पाठ को लेकर बहुत कम बताया जाता हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको कुछ ऐसी गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे आपको विष्णु भगवान की पूजा करते समय भूलकर भी नहीं करना चाहिए. यदि आप इन गलतियों को करते हैं तो इसका नकारात्मक असर आपके पुरे परिवार को भुगतना पढ़ सकता हैं.

  1. यदि आप खराब मूड में हैं या गुस्से में हैं तो विष्णु भगवान की पूजा करने ना बैठे. कई लोगो की आदत होती हैं कि घर के लड़ाई झगड़ों या किसी बात की वजह से उनका मूड बहुत ख़राब हो जाता हैं लेकिन फिर भी वो पूजा करने बैठ जाते हैं. इसके बाद भगवान की पूजा करते समय भी उनकी जुबान बीच बीच में चलती रहती हैं. कई बार तो उनके मुंह से कटु शब्द भी निकल जाते हैं. यदि वो चुप भी रहे तो उनके दिमाग में कई नकारात्मक चीजें मंडराती रहती हैं. इस अशांत मन से विष्णु जी की पूजा करना गलत माना जाता हैं. पहले आपको अपना मन शांत करना चाहिए, दिमाग पूरी तरह फ्रेश कर लेना चाहिए और फिर उसके बाद ही विष्णु जी की आराधना करने बैठना चाहिए.
  2. विष्णु भगवान के सामने भूलकर भी तेल का दीपक नहीं लगाना चाहिए. विष्णु जी को हमेशा घी का ही दीपक लगता हैं. इस घी वाले दीपक को लगाकर आरती करने से भगवान आपकी जल्दी सुनते हैं. जब आप विष्णु जी की आरती करे तो अंत में कपूर भी जला दे. ऐसा करना शुभ माना जाता हैं. यदि आपके घर घी नहीं हैं तो इमरजंसी में तेल का दीपक ना लगाए. बल्कि सिर्फ अगरबत्ती लगा के ही उनके हाथ जोड़ ले. विष्णु भगवान के सामने तेल का दीपक लगाने का आपके परिवार पर उलटा असर पड़ सकता हैं.
  3. भगवान विष्णु को हमेशा सम संख्या में ही अगरबत्ती लगाना चाहिए विषम संख्या में नहीं. अर्थात आप उन्हें दो, चार, छह, आठ इत्यादि संख्या में ही अगरबत्ती लगाए. एक, तीन, पांच और सात जैसी संख्या में अगरबत्ती लगाना अशुभ माना जाता हैं. यदि आप गलती से विषम संख्या में अगरबत्ती लगा देते हैं तो आपकी मनोकामना पूर्ण होने की बजाए रद्द हो सकती हैं.
  4. आप जिस कमरे में विष्णु भगवान की पूजा कर रहे हैं उस कमरे का माहोल शांत और पवित्र होना चाहिए. यदि वहां कोई शोर शराबा कर रह हैं, लड़ाई झगडा कर रहा हैं या बीडी सिगरेट फूंक रहा हैं तो आपको आपकी पूजा का फल नहीं मिलेगा. ऐसे स्थिति में उस व्यक्ति को पहले आप कमरे से बाहर कर दे और फिर शान्ति से पूजा पाठ करे.
Back to top button
E-Paper