बांदा : ऑनलाइन बिल जमा कराने के नाम पर ठगी का शिकार हो रहे उपभोक्ता

उपभोक्ताओं के मोबाइल पर मैसेज भेज कर जाल में फंसाते हैं साइबर अपराधी

फोन पर बिजली अधिकारी बनकर करते हैं बात, कोड लेकर खाली करते अकाउंट

भास्कर न्यूज

बांदा। ऑनलाइन भुगतान की सहूलियतों के बीच साइबर क्राइम से जुड़े गैंग भी खासे सक्रिय हैं और आए दिन भोले भाले लोगों को ठगी का शिकार बनाने से नहीं चूकते। माेबाइल पर फर्जी लिंक भेजकर जहां लोगों के बैंक एकाउंट खाली किए जा रहे हैं, वहीं अब बिजली का बिल जमा कराने के नाम उपभोक्ताओं के साथ ठगी की जा रही है। साइबर क्राइम से जुड़े अपराधी उपभोक्ताओं के मोबाइल पर मैसेज भेजकर बिजली अधिकारी के नंबर पर काल करने की हिदायत देते हैं और काॅल करने वाला उपभोक्ता ऐसे अपराधियों के जाल में फंस जाता है। इस मामले पर विभागीय अधिकारी उपभोक्ताओं को ऐसे मैसेज व काॅल से सावधान रहने की नसीहत देते हैं। हालांकि उनका यह भी स्पष्ट कहना है कि ऐसे मामले में उपभोक्ताआ स्वयं जिम्मेदार हैं।

देश की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार जहां सभी सरकारी सेवाओं काे डिजिटल करने और सभी तरह के भुगतान ऑनलाइन करने को बढ़ावा दे रहे हैं, वहीं सरकार की नीतियों का लाभ उठाकर साइबर क्रिमनल भी सक्रिय हो रहे हैं और भोले भाले लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं। ऐसा ही एक मामला इन दिनों कथित तौर पर बिजली विभाग से माेबाइल पर भेजे जा रहे मैसेज से सामने आया है। मोबाइल पर मैसेज करने वाला व्यक्ति उपभोक्ता को बिल जमा न होने की स्थिति में बिजली कनेक्शन काट देने की धमकी देता है और कथित बिजली अधिकारी के नंबर पर कॉल करने की हिदायत देता है। बताते हैं कि मैसेज पर विश्वास करके कॉल करने वाले को दूसरी तरफ से एक ऐप डाउनलोड करने के बाद 12 डिजिट का ऑटो जनरेटेड कोड मांगा जाता है। कोड मिलते ही कथित व्यक्ति मोबाइल का एक्सेस अपने पास लेकर गूगल पे या अन्य डिजिटल माध्यम से बैंक अकाउंट खाली कर देता है। कुछ मामलों में उपभोक्ताओं को एक लिंक के जरिए भी भुगतान करने की बात कही जाती है। उधर विभागीय सूत्र बताते हैं कि ऐसा कोई भी मैसेज या काॅल विभागीय स्तर से नहीं भेजा जाता है, यह पूरी तरह से फर्जी और कूटरचित है। हालांकि मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लखनऊ की ओर से इस फर्जीवाड़े को लेकर अपने उपभोक्ताओं को सचेत किया गया है और अधिकृत व्यक्ति या अधिकृत बेवसाइट पर ही बिल आदि का भुगतान करने की नसीहत दी गई है।

मुख्य अभियंता के सीयूजी पर भी आया मैसेज

ऑनलाइन बिजली बिल जमा कराने को लेकर ज्यादातर उपभोक्ताओं के मोबाइल पर आने वाला मैसेज जहां लोगों को परेशान कर रहा है, वहीं बिजली विभाग के बड़े अफसर भी इस तरह से मैसेज से अंजान नहीं हैं। दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम के मुख्य अभियंता बसंत कुमार झा खुद बताते हैं कि उनके सीयूजी मोबाइल नंबर पर भी इस तरह का मैसेज आ चुका है, जबकि उनका बिजली कनेक्शन उनके परिजनों के नाम पर है और उनका बिल भी अपडेट है। उनका कहना है कि उपभोक्ता अधिकृत काउंटर व बेवसाइट यूपी एनर्जी डॉट कॉम पर भी बिल का भुगतान करें। ऐसे किसी फर्जीवाड़े के लिए विभाग जिम्मेदार नहीं होगा, बल्कि ऐसी ठगी का शिकार होने वाले उपभोक्ता स्वयं जिम्मेदार होंगे। उन्होंने लोगों को फर्जीवाड़े से सावधान रहने और अपना बिजली का बिल अपडेट रखने की नसीहत दी है। 

Back to top button