बांदा : डीएम समेत जिलास्तरीय अफसरों ने किया 68 स्कूलों का निरीक्षण

डीएम ने गुढ़ाकलां में दो घंटे तक ली बच्चों की क्लास, पूछे गिनती पहाड़ा

दो दर्जन अध्यापकों, शिक्षामित्रों व अनुदेशकों का वेतन रोकने के निर्देश

भास्कर न्यूज

बांदा। जिलाधिकारी अनुराग पटेल की िनरीक्षण एक्सप्रेस मंगलवार को नरैनी विकास खंड के सरकारी स्कूलों की ओर पहुंची, जहां डीएम समेत जिलास्तरीय अफसरों ने 68 प्राथमिक, उच्च प्राथमिक कंपोजिट स्कूलों का एक साथ निरीक्षण किया। डीएम श्री पटेल ने जहां गुढ़ाकलां पूर्व माध्यमिक विद्यालय में शिक्षण कार्य की खराब गुणवत्ता के लिए दो सहायक अध्यापकों व अनुपस्थित मिले कर्मचारियों का वेतन-मानदेय रोक कर स्पष्टीकरण तलब किया। वहीं डीएम की टीम ने विभिन्न स्कूलों में अनुपस्थित मिले 21 प्रधानाध्यापकों, सहायक अध्यापकों व अन्य कर्मचारियों का वेतन रोकने के निर्देश दिए। साथ ही जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को स्कूलांे की व्यवस्था दुरुस्त रखने की हिदायत दी।

मंगलवार की सुबह जिलाधिकारी अनुराग पटेल समेत सीडीओ, एसडीएम, खंड विकास अधिकारियों समेत जिलास्तरीय अधिकारियों ने नरैनी ब्लाक के 68 स्कूलों में एक साथ छापा मारा और वहां शिक्षण व्यवस्था समेत अन्य सुविधाओं का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने गुढ़ाकलां गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में निरीक्षण किया और बच्चों के साथ दो घंटे बिताए। डीएम ने जहां बच्चों गिनती पहाड़ा पूछा, वहीं उन्हें विभिन्न विषयों की शिक्षा भी दी। निरीक्षण के दौरान परिचारक देवीशंकर त्रिपाठी, अनुदेशक आफशा यासमीन शिवधीर व बालकिशन अनुपस्थित मिले। डीएम ने सभी का मानदेय रोकते हुए स्पष्टीकरण तलब किया। बच्चों से सवाल जवाब के दौरान मात्र कुछ बच्चे ही उनके सवालों का सही जवाब दे सके। ऐसे में डीएम खराब शिक्षण व्यवस्था पर कड़ी नाराजगी जाहिर की और सहायक अध्यापक दिनेश सिंह का वेतन रोकने और इंचार्ज प्रधानाध्यापक राजदुलारी का स्पष्टीकरण तलब किया। 

इसके बाद डीएम ने गुढ़ाकलां के प्राथमिक कंपोजिट विद्यालय का निरीक्षण किया। जहां कक्षा पांच के बच्चे न तो 15 तक पहाड़ा सुना सके और न ही राष्ट्रगीत व झंडा गीत सुना सके। ऐसे में डीएम ने नाराजगी जाहिर करते हुए सहायक अध्यापक प्रमोद कुमार व मनीष त्रिपाठी का अगस्त माह का वेतन रोक दिया और स्पष्टीकरण मांगा। वहीं विद्यालय परिसर व शौचालयों में गंदगी के लिए वरिष्ठ प्रधानाध्यापक शिवकुमार सिंह का स्पष्टीकरण तलब करते हुए एक माह के अंदर मानक के अनुसार पठन-पाठन की गुणवत्ता में सुधार के आदेश दिए। 

ऐसे ही डीएम की टीम में शामिल सीडीओ वेदप्रकाश मौर्य, एसडीएम अतर्रा विकास यादव, एसडीएम नरैनी रावेंद्र सिंह, समाज कल्याण अधिकारी गीता सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रिंशी मौर्य, डीडीओ राघवेंद्र तिवारी समेत कई जिलास्तरीय अफसरों ने विभिन्न स्कूलों में निरीक्षण किया और अनुपस्थित मिले 21 कर्मचारियों का वेतन रोकने व स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश दिए। साथ ही संबंधित स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को कारण बताओ नोटिस निर्गत किया।

Back to top button