भूजल संचयन व संवर्धन क्षेत्र में विशिष्ट कार्य पर बांदा डीएम सम्मानित

मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को स्मृति चिन्ह देकर दी शाबासी

बांदा। राज्य भूजल सप्ताह दिवस समापन पर भूजल संचयन व संवर्धन क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी अनुराग पटेल को सम्मानित करते हुए शाबासी दी। इनके अलावा खेत पर मेड़-मेड़ पर पेड़ की विधि के जनक उमाशंकर पांडेय को भी सीएम ने सम्मानित किया।

16 से 22 जुलाई तक पूरे प्रदेश में राज्य भूजल सप्ताह दिवस मनाया गया। शुक्रवार को राज्य भूजल सप्ताह दिवस का समापन हुआ। पूरे प्रदेश में भूजल संचयन एवं संवर्धन के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों एवं संस्थाओं को मुख्यमंत्री ने अपने हाथों से सम्मानित किया गया। पूरे प्रदेश में सम्मानित होने वाले 11 लोगों में बांदा डीएम अनुराग पटेल समेत खेत पर मेड़, मेड़ पर पेड़ की विधि के जनक उमाशंकर पांडेय (बांदा) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित किया। डीएम श्री पटेल ने जनपद में जल संचय जीवन संचय के अंतर्गत विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर डीएम ने जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों के साथ नदी में फावड़ा चलाकर सिर पर मिट्टी ढोकर अभियान की शुरूआत की गई। वर्तमान में नदी के जीर्णोद्धार व पुनर्जीवन का कार्य पूरा हो चुका है। इसी तरह चंद्रावल नदी का जीर्णोद्धार करके नया जीवन दिया। जनपद के अमारा, पडोहरा एवं गडरिया गांवों में डीएम ने अधिकारियों के साथ जीर्णोद्धार का कार्य किया। बड़ोखरखुर्द विकास खंड के मटौंध ग्रामीण व इंटवा ग्राम पंचायतों में मरौली झील को पुर्नजीवित किया। इसके अलावा जलकुंभी हटाओ-तालाब बचाओ अभियान चलाकर 50 तालाबों को चिन्हित किया गया। डीएम ने अपने गोद लिए डिंगवाही गांव में जलकुंभी से पटे तालाब की सफाई की। इसके अलावा मिर्जापुर में तैनाती के दौरान डीएम ने जल, जलाशय, जमीन अभियान के तहत एक दिन में 505 तालाबों में खुदाई का कार्य शुरू करते हुए मात्र 40 दिन तक पूरा कर दिया।

Back to top button