बांदा : आचार संहिता उल्लंघन के मामले में विधायक दोषमुक्त

चुनाव प्रचार में मानक से अधिक वाहन प्रयोग का था आरोप

पांच साल के बाद द्वितीय अतिरिक्त सीजेएम ने सुनाया फैसला

भास्कर न्यूज

बांदा। पांच साल पहले चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामले में फैसला सुनाते हुए द्वितीय अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी गरिमा सिंह ने सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी को दोषमुक्त करार दिया है। विधायक पर चुनाव प्रचार के दौरान अनुमति से अधिक वाहन प्रयोग करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। दोषमुक्त होने के बाद विधायक का कहना है कि पूर्ववर्ती सरकार के दबाव में उन्हंे चुनाव लड़ने से राेकने के लिए विद्वेष पूर्ण मामला दर्ज कराया गया था।

बता दें कि 28 जनवरी 2017 को सदर विधानसभा चुनाव के दौरान वीडियो निगरानी टीम के प्रभारी अधिकारी सुरेंद्र कुमार ने भाजपा के तत्कालीन उम्मीदवार और मौजूदा विधायक प्रकाश द्विवेदी के खिलाफ चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के संबंध में धारा 171ई आईपीसी और 127ए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया था। मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजन व बचाव पक्ष की ओर से 7-7 गवाह पेश किए गए। साक्ष्यों की समीक्षा करने के बाद द्वितीय अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी गरिमा सिंह ने विधायक प्रकाश द्विवेदी को दोषमुक्त करार दिया है। दोषमुक्त सिद्ध होने के बाद विधायक श्री द्विवेदी ने कानून और न्याय प्रक्रिया पर भरोसा जताते हुए कहा कि उन्हें मामले में विद्वेषवश फंसाया गया था। विधायक की ओर से मामले की पैरवी वरिष्ठ अधिवक्ता ब्रजराज सिंह परिहार व सतीश चंद्र मिश्रा ने की।

Back to top button