बांदा : सरकारी संस्थाओं की बाउंड्री में कैद हुआ पिंक शौचालय

पालिका सभासदों ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर उठाई शौचालय खुलवाने की मांग

कस्बे में पेयजल पाइपलाइन बिछाने में धन का दुरुपयोग व भ्रष्टाचार का लगाया आरोप

भास्कर न्यूज

अतर्रा। कहने को तो नगर पालिका ने कस्बे में कई शौचालय बनवा रखे हैं, लेकिन सभी शौचालय किसी न किसी तरह से सरकारी संस्थाओं व दबंगों की गिरफ्त में हैं और उनका लाभ आम आदमी को नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में सभासदों ने नगर पालिका प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सरकारी संस्थाओं और दबंगों के कब्जे से शौचालयों को मुक्त कराने और उन्हें आम आदमी के लिए सार्वजनिक करने की मांग बुलंद की है।

गुरुवार को नगर पालिका के करीब एक दर्जन सभासदों ने एसडीएम विकास यादव को ज्ञापन सौंपकर बताया है कि कस्बे में महिलाओं के प्रयोग के लिए बना पिंक शौचालय जहां आयुर्वेदिक कालेज व हिंदू इंटर कालेज की बाउंड्री के अंदर हो गया है, वहीं बदौसा रोड स्थित एक अन्य शौचालय में भी दबंगों ने अपना कब्जा जमा रखा है। जिससे कस्बे के लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कहा है कि सरकारी संस्थाओं और दबंगों के कब्जे से शौचालयों को मुक्त कराकर आम जनता के लिए सार्वजनिक किया जाए। वहीं सभासदों ने ज्ञापन के माध्यम से पेयजल के लिए कस्बे में बिछाई जा रही पाइपलाइन में सरकारी धन के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। कहा है कि जिन इलाकों में पहले से ही पाइपलाइन पड़ी हुई है, वहां पर कमीशनखोरी के चक्कर में पालिका प्रशासन दोबारा पाइपलाइन डाल रहा है। जबकि पेयजल किल्लत से जूझने वाले मोहल्लों में पाइपलाइन नहीं बिछाई जा रही है।

सभासदों ने पालिका पर धन का बंदरबांट करने और भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाया है। इस मौके पर सभासद रणवीर सिंह उर्फ लालबाबू, अरविंद सिंह उर्फ राजू, चुन्नू राम सैनी, भानु प्रताप सिंह, चौबे प्रसाद, पंकज कुशवाहा, संजय कुमार, धीरज वर्मा, वीरेंद्र यादव, अनीता, विभा देवी आदि शामिल रहे। 

Back to top button