बीएचयू हिंसा: डॉक्टरों की हड़ताल से हजारों मरीज बेहाल, मचा हाहाकार

बीएचयू हिंसा:  डॉक्टरों की हड़ताल से हजारों मरीज बेहाल

वाराणसी . उत्तर प्रदेश में वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में हिंसक घटनाओं के बाद तनावपूर्ण शांति के बीच जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के तीसरे दिन भी जारी रहने से हजारों मरीज परेशान हैं।

विश्वविद्यालय के सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि अस्पताल प्रशासन की ओर से सुरक्षा की मांग पर हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टरों को मनाने की कोशिशें की जा रहीं हैं लेकिन वे हाल में कई बार हुए हमलों का हवाला देते हुए अपनी मांग पर अड़े हुए हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरेश राव आंनद कुलकर्णी ने बताया कि पुलिस ने बीएचयू हिंसा मामले में 300 से अधिक अज्ञात लोगों के खिलाफ अलग-अलग चार प्राथमिकी दर्ज की गईं हैं। सोमवार को इलाज के दौरान हुए विवाद के बाद जूनियर डॉक्टरों से मारपीट करने के एक आरोपी शिवाजी सिंह को गिरफ्तार कर उसे अदालत के आदेश पर जेल भेज दिया गया है। सीसीटीवी एवं अन्य वीडियो फूटेज की मदद से अभियुक्तों की पहचान करने कार्यवाही की जा रही है।

उन्होंने बताया कि लंका थाने के निरीक्षक भारत भूषण तिवारी की तहरीर के आधार पर हिंसक घटनाओं को अंजाम देने के आरोप में करीब 300 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन पर बीएचयू में बलवा, तोड़फोड़, मारपीट, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, ड्यूटी पर तैनात सरकारी उनके काम में बाधा पहंचाने समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई तथा गंभीरता से उसकी जांच की जा रही है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सोमवार को इलाज कराने के दौरान बीएचयू के सर सुंदर लाल अस्पताल के जूनियर डॉक्टरों से मारपीट के मामले में यहां के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक की तरहरी के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर की गई है, जबकि मरीज के परिजनों की शिकायत पर कुछ जूनियर डॉक्टरों पर मारपीट करने के मामले में दो मामले दर्ज किये गये हैं।

विश्वविद्यालय परिसर में गुरुवार को तनावपूर्ण शांति के बीच ऐहतियातन जिले के अपर जिला अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक स्तर कई अधिकारी यहां डेरा डाले हुए हैं। स्थानीय लंका समेत कई थानों की पुलिस एवं बड़ी संख्या में पीएसी के जवान सुरक्षा निगरानी कर रहे हैं।
बीएचयू में सबसे ज्यादा चहल-पहल वाले बिड़ला छात्रावास समेत उन चार छात्रावासों सन्नाटा पसरा हुआ है जिन्हें बुधवार को जिले के आला अधिकारियों की देखरेख एवं हजारों पुलिस के जवानों की मौजूदी में शांतिपूर्ण तरीके से खाली करवाये गए थे।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बीएचयू के सर सुंदर लाल अस्पताल में सोमवार को इलाज कराने गए एक मरीज के तीमारदारों और एक जूनियर डॉक्टर के बीच विवाद के बाद मारपीट की कई घटनाएं हुईं।
आरोप है कि कुछ शरारती तत्वों ने बिड़ला एवं लाल बहादुर शास्त्री छात्रावास के छात्रों को जूनियर डॉक्टरों के खिलाफ भड़काया जिसके बाद डॉक्टरों के रुईया एवं धनवंतरि छात्रावासों में घुसकर मारपीट की गई। सोमवार रात में घंटों तोड़फोड़ एवं आगजनी जैसी हिंसक घटनाओं की आग मंगलवार सुबह तक सुलगती रही।

वाराणसी मंडल एवं जिले के आला अधिकारी तड़े यहां पहुंचे। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 राकेश भटनागर ने मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरेश राव आनंद कुलकर्णी समेत कई आला अधिकारियों के साथ घंटों बैठक में स्थिति की समीक्षा करने के चार छात्रावासों को खाली करवाने एवं 28 सितंबर तक सभी कक्षाएं निलंबित करने का फैसला लिया था।

 

Back to top button
E-Paper