बड़ा एक्शन : पार्थ-अर्पिता के ठिकानों पर ED का छापा, विधायक माणिक से भी पूछताछ जारी

बंगाल में शिक्षक घोटाले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों पर छापा मारा है। ED ने शनिवार को ही पार्थ और अर्पिता को अरेस्ट किया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्थ और अर्पिता के 5 ठिकानों पर ED ने छापा मारा है। यहां CRPF की टीम भी मौजूद है।

ED की टीम ने अर्पिता के ऑफिस, रिश्तेदारों के घर और बाकी फ्लैट्स पर भी छापा मारा है, जहां से कई अहम दस्तावेज मिलने का दावा किया जा रहा है।

अर्पिता से पूछताछ के दूसरे दिन छापा मारा
प्रवर्तन निदेशालय की टीमें कोलकाता और उसके आसपास पांच जगहों पर पहुंची। इनमें उत्तर 24 परगना जिले के बेलघोरिया में अर्पिता मुखर्जी का घर भी शामिल है। ईडी के पांच अधिकारियों ने सेंट्रल फोर्सेस तलाशी ली। यह कार्रवाई ईडी के अधिकारियों द्वारा शिक्षक भर्ती घोटाले के बारे में मंगलवार को मुखर्जी से हुई पूछताछ के एक दिन बाद हुई है।

अर्पिता का कोलकाता में एक और घर है, जहां से ईडी के अधिकारियों ने पिछले हफ्ते छापेमारी के दौरान करीब 22 करोड़ रुपए नकद, 20 से ज्यादा मोबाइल और कई दस्तावेज बरामद किए थे।

टाल-मटोल कर रहे थे पार्थ, अर्पिता ने सहयोग किया- ED
पार्थ चटर्जी पूछताछ के दौरान टालमटोल कर रहे थे, जबकि उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी ने कई खुलासे किए।

अर्पिता मुखर्जी को पूरी रात ED के CGO ऑफिस के वुमन लॉकअप में पूरी रात रखा गया।
मंगलवार सुबह 10 बजे दोनों से पूछताछ शुरू हुई। इस बीच दोनों को अलग-अलग कमरों में रखा गया।
पार्थ से प्रॉपर्टी, टीचर्स के अपॉइंटमेंट लेटर, उनके घर से जब्त एडमिट कार्ड की फोटोकॉपी के बारे में पूछा गया।
अर्पिता ने पूछताछ में बताया कि पार्थ उनके घर को मिनी बैंक की तरह इस्तेमाल कर रहे थे।
शिक्षक भर्ती घोटाले में पार्थ सर्कल में शामिल टीएमसी पार्षदों सहित कई बिजनेसमैनों को भी समन भेजा जाएगा।
इस बीच एक टीम मंगलवार को स्कूल शिक्षा विभाग हेडक्वॉर्टर भी पहुंची। जहां कई अधिकारियों से सवाल किए गए।
विधायक माणिक से भी पूछताछ जारी
ED ने मंगलवार को TMC विधायक माणिक भट्टाचार्य को भी शिक्षक भर्ती घोटाले में समन जारी किया था। माणिक से बुधवार को दोपहर 12 बजे बुलाया गया था, लेकिन वे सुबह 10 बजे ही पहुंच गए। सुबह 11 बजे से उनसे सवाल-जवाब शुरू हुए। सेंट्रल एजेंसी ने 22 जुलाई को भट्टाचार्य के घर की तलाशी ली थी और उन्हें पूछताछ के लिए पेश होने कहा था।

ED ने सोमवार को भी कलकत्ता हाईकोर्ट के सामने कई बातें रखी थीं। इनमे सबसे अहम ब्लैक डायरी थी, जो जांच एजेंसी ने पार्थ की करीबी एक्ट्रेस अर्पिता मुखर्जी के घर से बरामद की थी।

48 घंटे में दोबारा मेडिकल के लिए पहुंचे पार्थ-अर्पिता
ममता सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को बुधवार को मेडिकल जांच के लिए ईएसआई अस्पताल भेजा गया। कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार हर 48 घंटे के बाद उनका मेडिकल चेकअप किया जाना है। वे 3 अगस्त तक ED की हिरासत में हैं। कोर्ट ने यह भी कहा था कि अर्पिता से रात 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक कोई पूछताछ न हो।

डायबिटीज के मरीज हैं पार्थ चटर्जी
मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद पार्थ और अर्पिता से दोबारा पूछताछ की जाएगी। मेडिकल चेकअप के दौरान 69 साल के पार्थ का वजन 111 KG पाया गया। एम्स के डॉक्टरों ने कहा था कि उम्र के हिसाब से उनका वजन ज्यादा है। पार्थ की हाइट 169 सेमी यानी 5 फीट 5 इंच है। रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ कि उनके पैर में सूजन है।

पार्थ का दावा है कि वे 15 साल से डायबिटीज से पीड़ित हैं, इसलिए उन्हें रेग्युलर दवाएं लेनी पड़ती हैं। सोमवार को हुई जांच के बाद पता चला कि उन्हें डायबिटीज है, लेकिन उनका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में है।

Back to top button