हाथरस की नहर में फेंके गए गोवंश, ग्रामीणों में आक्रोश

भास्कर समाचार सेवा

हाथरस। क्षेत्र की मेंडू नहर में आधा दर्जन के लगभग गौवंशों के शव तैरते मिले। जिसके बाद ग्रामीणों की भीड़ लग गयी। बताया जा रहा है कि नगर पालिका हाथरस की गाड़ी द्वारा पानी में गौवंशो को डाला गया है। सूचना के बाद मौके पर पुलिस और तहसील स्तर के अधिकारी पहुंच गये हैं।
बता दें कि थाना हाथरस जंक्शन क्षेत्र के बरेली मथुरा राजमार्ग पर स्थित मेंडू नहर में आज ग्रामीणों के द्वारा आधा दर्जन के लगभग गौवंशों के शव पड़े देखे गये, जिससे उठती बदबू के कारण आसपास के लोगों का निकलना मुश्किल हो रहा था। गौवंशो के शवों की जानकारी जंगल में आग की तरह आसपास के क्षेत्र में फैल गयी जिसके बाद मौके पर ग्रामीणों की काफी भीड़ जमा हो गई। वही एक प्रत्यक्षदर्शी व्यक्ति यतेंद्र कुमार के द्वारा बताया गया कि 2 दिन पूर्व हाथरस नगर पालिका की गाड़ियां यहां आई थी जिन पर नगर पालिका हाथरस लिखा हुआ था। वह गाड़ियां जिंदा गौवंश को नहर किनारे झाड़ियों में छोड़ गई और मरे हुए गौवंश को पानी में डालकर चली गई। जब तक वहां ग्रामीणों की भीड़ जमा हुई तब तक दोनों गाड़ियां वहां से भाग चुकी थी। बड़ा सवाल यह है कि जहां उत्तर प्रदेश की योगी सरकार करोड़ों रुपए गोवंश की सुविधा के लिए खर्च कर रही है प्रत्येक जिले को गायों के लिए अलग से बजट दे रही है जिससे गौवंशों की दुर्दशा ना हो उसके बावजूद भी हाथरस जिले में गोवंश के प्रति इतनी निर्दयता हाथरस जिला प्रशासन को सवालों के कटघरे में खड़ा करती है। वहीं गौवंशों के नहर में शव पड़े होने और ग्रामीणों के हंगामे की जानकारी पर मौके पर 2 थानों की पुलिस के साथ तहसील और पुलिस विभाग के अधिकारी पहुंच गए जिनके द्वारा गौवंशों के शवों को नहर से निकलवाया गया है।

Back to top button