कचरा उठाने को खरीदे गए लाखों रुपये के ई-रिक्शा बने कबाड़

भास्कर समाचार सेवा

नौहझील। जनपद मथुरा के आखिरी छोर अलीगढ़ बॉर्डर पर बसी नगर पंचायत बाजना में नगर का कचरा उठाने के लिए सरकार ने लाखों रुपये खर्च कर पांच ई रिक्शा खरीदे थे।ई रिक्शा खरीदने के बाद मुश्किल से एक माह तो उनसे नगर का कचरा उठाया गया।उसके बाद से सभी ई रिक्शा आज तक नगर पंचायत के जलकर परिसर में कबाड़ बने खड़े हैं।सूत्रों की माने तो सभी ई रिक्शों से बैटरी भी गायब कर दी गयी हैं,जिनकी आजतक कोई खबर नही हैं।आपको बतादेंं कि एक ई रिक्शा में चार बड़ी बैटरी लगी होती हैं, चार बैटरी के हिसाब से सभी पांच ई रिक्शो की बीस बैटरी गायब हैं।ई रिक्शो के आलाबा नगर पंचायत द्वारा नगर के लिए खरीदे गए लोहे के डस्टबीन भी कबाड़ बने पड़े जिनको आजतक प्रयोग में नही लिया गया है।नगर पंचायत के वार्ड नंबर एक गांधीनगर से सभासद लोकमन जी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि नगर पंचायत में पूरा भ्रस्टाचार हुआ है।नगर के हैंड पम्प खराब पड़े हैं।प्रस्ताव बनाकर नए नए उपकरण खरीदे तो जा रहे हैं लेकिन उपयोग के बजाय उनको कबाड़ बनाकर डाल रखा है। नगर पंचायत का डंपिंग ग्राउंड तो बना दिया गया है लेकिन कचरे को नगर के आसपास ही सड़को के किनारे डाला जा रहा है।आगे जानकारी देते हुए लोकमन ने कहा कि नगर पंचायत द्वारा पिछले पांच बर्षो में किये गए खर्चे का कोई हिसाब नही है। नगर पंचायत में हुए भ्रस्टाचार की शिकायत मुख्यमंत्री जी से करूँगा।तो वही नगर पंचायत के चेयरमैन देवीराम से बात करने की कोशिश की गई मगर फोन रिसीव नही किया गया।

Back to top button