किसान की अवैध खदान के पानी भरे गड्ढे में डूबकर मौत, बहन से मिलकर लौटते समय हुआ हादसा

भास्कर न्यूज

बांदा। खदान संचालकों के अवैध खनन में बनाए गए गहरे गड्ढे अब मौत का सबब बन रहे हैं। नाव घाट के पास ऐसे ही एक गड्ढे में किसान डूब गया। नाविकों ने जब तक निकाला, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। करीब तीन घंटे बाद बहनोई ने शव की शिनाख्त की।

पैलानी थाना क्षेत्र के खप्टिहाकलां गांव में केन नदी के दूसरे छोर पर नाव घाट है। प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीणों के मुताबिक शनिवार को सुबह वृद्ध नदी किनारे पानी में हाथ धोने लगा, तभी गड्ढे की गहराई में अंसुलित होकर गिर गया। नजदीक ही मौजूद चंद्रप्रकाश और भूरा निषाद नाव से पहुंचे और पानी में छलांग लगा उसे बचाने का प्रयास किया। शोर सुन पहुंचे दिनेश निषाद, अशोक, पंचायत मित्र श्रीकांत सिंह व जयकरन भी तलाशने की कोशिश में जुटे। कुछ देर बाद घटनास्थल से करीब 15 मीटर दूर उसका शव ग्रामीणों ने पानी में उतराता देखा।

ग्राम प्रधान मैना निषाद की सूचना पर पैलानी थानाध्यक्ष नंदराम प्रजापति पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थल पहुंच गए। ग्रामीणों से शव की शिनाख्त का प्रयास किया। नायब तहसीलदार कमलेश यादव व लेखपाल कृष्णचंद्र, चौकी इंचार्ज खप्टिहा कलां ओम प्रकाश द्विवेदी ने आसपास शिनाख्त का प्रयास किया। लगभग तीन घंटे बाद खप्टिहा कलां निवासी भोला सोनी ने शव की शिनाख्त अपने साले बबेरू कोतवाली क्षेत्र के बगेहटा गांव निवासी चुन्नीलाल उर्फ पुन्ना (60) पुत्र राम प्रसाद के रूप में की। पुलिस को बताया कि अपनी बहन रानी से मिलकर जसपुरा के गौरीकला में रहने वाली दूसरी बहन भूरी से मिलने गए थे, जहां से वापस लौट रहे थे। भांजे धर्मपाल ने बताया कि एक दिन पहले ही वह घर से गए थे।

Back to top button