दूधिया पर खाद्य विभाग मेहरबान, वर्षों से नहीं ली टोह

डेयरी संचालकों को दी हिदायत, वेंडरों पर रखें नजर

खाद्य सुरक्षा विभाग का डेयरी एवं खाद्य प्रतिष्ठानों प्रतिष्ठानों पर छापा

भास्कर समाचार सेवा

मथुरा। मिल्क वैण्डर पर खाद्य विभाग मेहरबान है। वर्षों से प्रतिदिन घर घर हजारों लीटर दूध पहुंचा रहे मिल्क टेंडर के खिलाफ खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन ने कोई कार्यवाही नहीं की है। कोई समेकित अभियान विभाग की ओर से नहीं चलाया गया है। वर्ष 2008 में हुई बड़ी कार्यवाही के बाद विभाग ने इस ओर से मुंह मोड़ लिया है। वर्ष 2008 में सैकड़ों मिल्क वैण्डर के खिलाफ विभाग ने सतत कार्यवाही की थी। मिल्क वण्डर की मोटरसाइकिल को कलेक्ट्रेट पर खडा करा लिया गया था, लेकिन इसके बाद जो घटना क्रम हुए उससे विभाग के कान खडे हो गए और इसके बाद विभाग मिल्क वेंडर के खिलाफ ठीक से कार्यवाही करने की हिम्मत नहीं जुटा सका है। जिलाधिकारी के निर्देश पर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन मथुरा के सहायक आयुक्त डॉ. गौरी शंकर के नेतृत्व में मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी एसपी तिवारी तथा खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम ने शहर में संचालित डेयरी पर छापामार कार्रवाई की। बुधवार को टीम द्वारा सुबह आठ बजे होली गेट स्थित कृष्णा डेयरी तथा जैन डेयरी का सघन निरीक्षण किया। निरीक्षण के उपरांत जैन डेयरी से संदेह होने पर दूध  तथा पनीर के दो सैंपल एवं मिल्क वेंडर से दूध के दो सैंपल तथा कृष्णा  डेयरी  से पनीर एवं दूध का एक एक सैंपल संग्रहित किया। दोनों डेयरी संचालकों को गुणवत्ता युक्त दूध एवं दुग्ध पदार्थ विक्रय करने के निर्देश दिए। साथ ही डेयरी संचालकों से कहा गया के यदि कोई मिल्क वेंडर मिलावटी दूध संग्रह करके डेयरी प्लांट पर आता है तो उसकी सूचना विभाग को दी जाए। उसके बाद टीम श्रीजी डेयरी प्रतिष्ठान पर पहुंची जहां परिसर का निरीक्षण करने के उपरांत दूध का एक सैंपल जांच हेतु संग्रहित किया गया।

Back to top button