LIVE : ताइवान से रवाना हुईं पेलोसी, अब पाक ने चीन से मिलाए सुर

ताइपे । चीन के जबर्दस्त विरोध और धमकियों के बावजूद ताइवान पहुंचीं अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ताइवान के ताइपे एयरपोर्ट से दक्षिण कोरिया के लिए रवाना हो गई हैं। इस बीच पाकिस्तान ने भी चीन से सुर मिलाते हुए पेलोसी के ताइवान दौरे पर विरोध दर्ज कराया है।

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी एशियाई देशों की यात्रा पर हैं। वे मंगलवार रात ताइवान पहुंचीं थीं। चीन उनकी ताइवान यात्रा का लगातार विरोध कर रहा था और चीन की ओर से इस मसले पर अमेरिका को धमकी तक दे दी गयी थी। इसके बावजूद पेलोसी ने ताइवान यात्रा पर जाने का फैसला किया। वहां पहुंची पेलोसी को ताइवान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ प्रॉपिटियस क्लाउड्स विद स्पेशल ग्रैंड कॉर्डन’ से सम्मानित किया गया।

इसके बाद पेलोसी व ताइवान की राष्ट्रपति ई इंग वेन के बीच मुलाकात में शांति व स्थिरता पर जोर दिया गया। ताइवान ने अपनी संप्रभुता बनाए रखने की बात कही और अमेरिका को ताइवान का साथ देने के लिए धन्यवाद भी दिया। बुधवार को ताइवान यात्रा समाप्त कर पेलोसी दक्षिण कोरिया के लिए रवाना हो गईं। इस बीच पेलोसी की ताइवान यात्रा से नाराज चीन ने ताइवान पर कई प्रतिबंध लगा दिए। इतना ही नहीं चीनी सेना ने 21 सैन्य विमानों से ताइवान के दक्षिण-पश्चिमी हिस्से में उड़ान भरकर अपनी ताकत दिखाई।

चीन ने कहा कि अमेरिका ने ‘वन चाइना पॉलिसी’ का उल्लंघन किया है। चीन की सेना ने ताइवान के चारों ओर सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया। इस मसले पर चीन को पाकिस्तान का साथ मिला है। पाकिस्तान ने नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा पर चीन के सुर में सुर मिलाए हैं। पाकिस्तान ने कहा है कि पेलोसी की इस यात्रा से क्षेत्रीय शांति पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता आसिम इफ्तिखार ने कहा कि दुनिया अब एक और विवाद झेलने की स्थिति में नहीं है, जिससे कई देशों की शांति भंग हो। पेलोसी की ताइवान यात्रा दुनिया को शांति भंग करने की ओर ले जा सकती है।

नैंसी पेलोसी को ताइवान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, चीन ने लगाए प्रतिबंध

चीन की धमकियों को बेअसर साबित कर मंगलवार रात ताइवान पहुंचीं अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी को ताइवान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से सम्मानित किया गया है। ताइवान-अमेरिका की इन नजदीकियों से गुस्साए चीन ने ताइवान पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिये हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी मंगलवार रात 8:26 बजे मलेशिया से ताइवान पहुंचीं। एयरपोर्ट पर ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग वेंन ने उनका स्वागत किया। बुधवार को ताइवान की संसद में पेलोसी के सम्मान में समारोह का आयोजन हुआ। ताइवान की राष्ट्रपति ने पेलोसी को ताइवान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ प्रॉपिटियस क्लाउड्स विद स्पेशल ग्रैंड कॉर्डन’ से सम्मानित किया गया। सम्मान स्वीकार करते हुए पेलोसी ने कहा कि अमेरिका को ताइवान के साथ अपनी दोस्ती पर गर्व है। अमेरिका हर स्तर पर ताइवान का साथ देगा। पेलोसी ने कहा कि अमेरिका ताइवान के लोकतंत्र का समर्थन जारी रखेगा। ताइवान के ढाई करोड़ नागरिकों के साथ अमेरिका की एकजुटता आज पहले से कहीं अधिक अहम है, क्योंकि दुनिया निरंकुशता और लोकतंत्र के बीच एक विकल्प का सामना कर रही है।

इस बीच पेलोसी की ताइवान यात्रा से बौखलाया चीन ताइवान को हर तरह से परेशान करना चाहता है। चीन ने ताइवान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं। चीनी सरकार ने ताइवान को नेचुरल सैंड देने पर रोक लगा दी है। इससे ताइवान को काफी नुकसान हो सकता है। चीन ने ताइवान के 100 से ज्यादा फूड सप्लायर से आयात (इम्पोर्ट) पर प्रतिबंध लगाया था। पेलोसी के ताइवान पहुंचने से ठीक पहले ताइवान पर साइबर हमला कर राष्ट्रपति की वेबसाइट सहित सरकारी वेबसाइट्स हैक कर ली गयीं। ताइवान के प्रमुख ताइपे हवाई अड्डे को बम से उड़ाने की धमकी दी गई। चीन के युद्धक विमान ताइवान की सीमा के ऊपर उड़ान भरते नजर आए। चीन की नौसेना ने ताइवान के चारों तरफ युद्धपोत तैनात करके युद्ध अभ्यास किया।

Back to top button