लॉकडाउन की मार : बच्ची को कंधे पर लेकर इंदौर से 900 किलोमीटर का सफर तय कर घर पहुंची महिला

अमेठी । इंदौर से एक महिला बेटी को कंधे पर बिठाकर 900 किलोमीटर का लंबा सफर तय करते हुए जिले के जगदीशपुर स्थित अपने घर पहुंची। स्वयं केंद्रीय मंत्री एवं सांसद स्मृति ईरानी ने फोन कर परिवार का हाल-चाल जाना।

स्मृति ने प्रशासन को टेस्ट और इलाज के लिए बोला और बीजेपी जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी को परिवार को राशन सामग्री, मास्क, सेनेटाइजर आदि के साथ 25 हजार रूपए की मदद का निर्देश दिया। जगदीशपुर क्षेत्र निवासी शमसुल निशा परिवार सहित इंदौर में रहती थी। लाकडाउन में काम धंधा बंद होने से परिवार मुसीबत में गिरफ्तार हुआ तो इन्होंने इंदौर से अमेठी लगभग 900 किलोमीटर की यात्रा पैदल का फैसला किया। 7 मई को परिवार के कुछ लोगों के साथ ये महिला बच्ची को कंधे पर बैठा कर चली और 9 मई को अपने घर पहुंची।

इस बात की खबर लगते ही स्मृति ईरानी ने अमेठी प्रशासन को निर्देशित किया कि तत्काल परिवार को राहत सामग्री उपलब्ध कराएं और जांच व इलाज की व्यवस्था करें। परिवार के सदस्य इकराम ने बताया कि स्मृति ईरानी की तरफ से हम लोगों को राशन मास्क पैसे सैनिटाइजर इत्यादि दिया गया है इसके लिए दीदी स्मृति ईरानी को धन्यवाद है। वहीं बीजेपी जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी ने बताया कि स्मृति ने पेपर में निकली एक खबर का संज्ञान लिया कि हमारे अमेठी की एक लड़की एक बिटिया अपनी बेटी को कंधे पर लेकर इंदौर से 900 किलोमीटर की दूरी पैदल तय करते हुए अमेठी आई है। यह जानते ही उनके मन में अमेठी के लिए जो एक स्नेह है उसके नाते अमेठी के प्रशासनिक अमले को इनकी मदद एवं जांच के लिए इलाज तथा सहयोग के लिए कहा और साथ ही हमको भी निर्देशित किया कि आप वहां पर पहुंचे उनका हालचाल लीजिए और अपनी तरफ से 25 हजार की आर्थिक मदद देने के लिए सीधे निर्देशित किया है।

Back to top button
E-Paper