ममता बनर्जी ने पार्थ को मंत्री पद से हटाया, गिरफ्तारी के 5 दिन बाद बड़ा एक्शन

ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल के शिक्षक भर्ती घोटाले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटा दिया है। गिरफ्तारी के 5 दिन बाद ममता सरकार ने ये एक्शन लिया है। दरअसल, बुधवार से गुरुवार तक चली 18 घंटे की रेड में ED ने पार्थ की करीबी अर्पिता मुखर्जी के दूसरे घर से 27.9 करोड़ रुपए कैश और 5 किलो गोल्ड जब्त किया।

कैश के बारे में ED के सवाल पर अर्पिता ने बताया कि ये सारे रुपए पार्थ चटर्जी के हैं। उन्होंने कहा, ‘पार्थ इस घर का इस्तेमाल रुपए रखने के लिए करते थे। मुझे अंदाजा नहीं था कि घर में इतना सारा कैश रखा होगा।’ पार्थ की करीबी इस खुलासे और पार्टी पदाधिकारियों की पार्थ को हटाने की मांग के बाद ममता सरकार ने यह फैसला लिया।

ममता सरकार में नंबर-2 की हैसियत रखते थे पार्थ
ममता सरकार में पार्थ चटर्जी सबसे सीनियर मंत्री थे। वो दक्षिण 24 परगना के बेहला पश्चिम सीट से पांच बार विधायक रह चुके हैं। पार्थ चटर्जी 2011 से लगातार मंत्री थे। वे 2006 से 2011 तक बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं। पार्थ के पास वर्तमान में उद्योग, वाणिज्य और संसदीय कार्य जैसे बड़े मंत्रालयों का प्रभार था। अभिषेक बनर्जी ने आज शाम अनुशासन समिति की बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि उनसे पार्टी महासचिव का पद भी छीना जा सकता है।

TMC प्रवक्ता ने कहा था- जांच पूरी होने तक सभी पदों से हटाए जाएं पार्थ
तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने मांग की थी कि पार्थ चटर्जी को जांच पूरी होने तक सभी पदों से हटाया जाए। घोष ने कहा कि अगर ममता दीदी को मेरा बयान गलत लग रहा है, तो मुझे भी हटा दें। घोष तृणमूल महासचिव अभिषेक बनर्जी के करीबी माने जाते हैं।

हालांकि, बुधवार को टीटागढ़ में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता ने कहा था कि मीडिया कंगारू अदालत की भूमिका निभा रहा है। हम मीडिया ट्रायल के खिलाफ हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि आप निश्चिंत रहें, ‌BJP 2024 में सत्ता में नहीं आएगी। ये महाराष्ट्र नहीं है।

अर्पिता के घर से मिली सोनें की ईंटें और पेन, गोल्ड की कीमत 4.31 करोड़
ED अधिकारियों ने कहा, ‘इससे पहले कभी अर्पिता ने नहीं बताया था कि उनके दूसरे फ्लैट पर भी कैश रखा हुआ है। लेकिन जब हमने घर पर छापा मारा तो हमें 2000 और 500 के नोटों के बंडल मिले। 2000 रुपए के नोटों से 50 लाख रुपए के बंडल और 500 रुपए के नोटों से 20 लाख रुपए के बंडल बनाए गए थे। हमें 4.31 करोड़ रुपए का सोना भी मिला। इसमें 1-1 किलो की 3 सोने की ईंटें, 6 कंगन (सभी 500-500 ग्राम के) और एक सोने का पेन मिला है।’

ED सूत्रों के मुताबिक, 18 घंटे तक चली रेड में अर्पिता के फ्लैट से 3 डायरी भी मिली हैं, जिसमें लेनदेन का रिकॉर्ड कोडवर्ड में दर्ज है। जांच एजेंसी ने घर से 2,600 पेज का एक दस्तावेज भी बरामद किया है, जिसमें पार्थ और अर्पिता की जॉइंट प्रॉपटी का जिक्र है।

ED बुधवार को ही पार्थ और अर्पिता के करीबियों के ठिकानों पर भी छापे मारे। इसके अलावा उत्तर 24 परगना जिले के बेलघरिया और राजडांगा में भी ED की टीमें जांच के लिए पहुंचीं थीं। अर्पिता के जिस घर से कैश मिला वो बेलघरिया में है।

अब तक अर्पिता के दोनों घरों पर 44 घंटे की रेड हुई है जिसमें करीब 50 करोड़ कैश और बड़ी मात्रा में गोल्ड रिकवर किया जा चुका है। ED ने अर्पिता के बेलघरिया टाउन क्लब स्थित दो फ्लैट्स में से एक को सील कर दिया है। एक फ्लैट के आगे सोसाइटी का नोटिस भी चस्पा है। इसमें लिखा गया है कि अर्पिता ने मेंटेनेंस के 11,819 रुपए नहीं चुकाए हैं।

Back to top button