मास्साब की लापरवाही पर पूरे स्टाफ पर गिरी गाज, तीन घंटे तक विद्यालय मे बंद रहा मासूम छात्र

रोनें-बिलखनें की ग्रामीणों को पहुंची आवाज

सूचना पर शिक्षामित्र ने पहुंचकर मासूम को निकाला बाहर

बीएसए ने इस मामले में लिया एक्शन, प्रधानाध्यापक समेत पूरा स्टाफ निलबिंत

भास्कर समाचार सेवा

हाथरस/सासनी। गुरूवार को मास्साब की लापरवाही के कारण एक छात्र विद्यालय के कक्षा में बंद रह गया था। जो करीब तीन घंटे तक बंद रहा। मास्साब की इस लापरवाही की भेंट विद्यालय का पूरा स्टाफ चढ गया। बीएसए ने पूरे स्टाफ को अटेचमेंट कर दिया और कारण बताओ नोटिस जारी किया है। मास्साब की लापरवाही के कारण विद्यालय में बंद हुए छात्र को तीन घंटे रोना बिलखना पडा। वहीं शिक्षाधिकारी ने बताया कि छात्र पंद्रह मिनट कमरें में बंद रहा और उसके रोने की आवाज सुनकर उसे ग्रामीणों द्वारा शिक्षामित्र को बुलाकर कमरे से बाहर निकाला गया। जो प्रधानाध्यापक भंवर सिंह प्रथम दृष्टया दोषी हैं उन पर प्रधानाध्यापक पद के प्रति निर्धारित दायित्वों के निर्वहन में उदासीनता एवं घोर लापरवाही बरतने एवं अन्य अरोपों में तत्काल प्रभास से निलंबित करते हुए अनुशासनिक कार्रवाई की गयी है। वहीं खंड शिक्षाधिकारी नगर क्षेत्र हाथरस हरिकिशोर सिंह एवं खंड शिक्षा अधिकारी हसायन लक्ष्मीकांत को जांच अधिकारी के रूप में नामित किया गया है। वहीं प्रधानाध्यापक की वित्तीय नियम संग्रह के तहत जीवन निर्वाह भत्ता धनराशि अर्द्ध वेतन पर देय अवकाश के राशि के बाराबर देय होगी। तथा उन्हें जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि मंहगाई भत्ता आदि ऐसे अवकाश वेतन पर देय है। निलंबन की अवधि में प्रधानाध्यापक को मैंदामई विकास खंड हसायन से सम्बद्ध किया गया है। इसके अलावा बीएसए संदीप कुमार ने कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए, गीता देवी को गांव मोहनपुर, राकेश कुमार को गिरधरपुर, सचिन शर्मा को गांव शेरपुर, विजेंद्र कुमार को गांव जिरौली खुर्द, ललित प्रताप सिंह को गांव गिनौली किशनपुर, किशन कुमार को गांव खेडिया कलां, कुमारी मधु भाटी को गांव नागल रति, उपवन गुप्ता को गांव गूजरपुर, साधना सिंह को गांव धुबई, सभी दस लापरवाह अध्यपकों को विकास खंड हसायन के प्राधामिक विद्यालयों से सम्बद्ध कर दिया गया है। बीएसए ने अपनी कार्रवाई की प्रतिलिपि करीब आधा दर्जन अफसरों को प्रेषित की है।

Back to top button