पैट्रोल पंप मैनेजर से हुई लूट का खुलासा, तीन गिरफ्तार

28 जून को कंकरखेड़ा में हुई थी घटना, तीन लाख रुपये बरामद

भास्कर समाचार सेवा
मेरठ। थाना कंकरखेड़ा, सर्विलांस व एसओजी की संयुक्त टीम द्वारा शुक्रवार को इंडियन पैट्रोल पम्प मैनेजर से हुई सात लाख रुपये की लूट की घटना का खुलासा कर दिया गया। पुलिस ने तीन लुटेरों को गिरफ्तार करते हुए घटना में प्रयुक्त बाइक, तमंचा व लूटे गए तीन लाख रुपये बरामद कर लिए।

पुलिस लाइन स्थित सभागार में प्रेसवार्ता के दौरान एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया, गत 28 जून को थाना कंकरखेडा क्षेत्र में इंडियन ऑयल पैट्रोल पम्प के मैनेजर योगेन्द्र कुमार पुत्र रतिराम निवासी कावेरी एन्कलेव मोदीफोन रोड मोदीनगर गाजियाबाद हाल पता शिव शक्ति इंडियन ऑयल एनएच-58 इखलास नगर डाबका बाईपास रोड से बाइक सवार 06 व्यक्तियों द्वारा तमंचे के बल पर 7 लाख रुपये लूट लिए गए थे। घटना का खुलासा करने के लिए एसओजी, सर्विलांस सैल व कंकरखेड़ा पुलिस की संयुक्त टीम गठित की गयी। पुलिस की संयुक्त टीम ने रोहटा रोड रेलवे लाइन पुल के पास चेकिंग के दौरान मुखबिर की सूचना पर तीन लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में जिन्होंने अपने नाम हर्ष उर्फ मोगली पुत्र मनोज गुप्ता निवासी कृष्णा कुन्ज कालोनी कस्बा व थाना मोदीनगर जनपद गाजियाबाद, सन्दीप शर्मा पुत्र कैलाश शर्मा निवासी कृष्णा कुन्ज कालोनी कस्बा व थाना मोदीनगर जनपद गाजियाबादए व प्रिन्स पुत्र नेपाल सिंह निवासी इन्द्रापुरी कस्बा व थाना मोदीनगर जनपद गाजियावाद बताया।

एसएसपी ने बताया, हर्ष के कब्जे से एक मोबाइल एवं एक लाख 14 हजार रुपये, सन्दीप के कब्जे से एक लाख दस हजार रुपये व प्रिन्स के कब्जे से एक लाख बारह हजार रुपये बरामद किए गए। पूछताछ पर बताया, एक व्यक्ति जो पूर्व में इस पैट्रोल पम्प पर काम करता था, जिसने यशु को कैश ले जाने के बारे में बताया था। पैट्रोल पंप से दिन में काफी कैश रोजाना बैंक में जमा करने के लिए जाता है, इस बात की जानकारी होने पर हर्ष उर्फ मोगली, सन्दीप शर्मा व प्रिन्स ने अपने साथी दरोगा निवासी ग्राम पट्टी थाना भोजपुर जनपद गाजियावाद, यशु उर्फ बिलाल निवासी मोहल्ला बेगमाबाद कस्बा व थाना मोदीनगर गाजियाबाद व हिमान्शु उर्फ चैंटा निवासी भूपेन्द्रपुरी तिपरा रोड कस्बा व थाना मोदीनगर गाजियाबाद ने मोदीनगर रेलवे स्टेशन के बाहर बैठकर पेट्रोल पंप के कैश को लूटने की योजना बनाई थी। योजना के मुताबिक सभी ने साथ मिलकर कई दिनों तक कैश को ले जाने की रैकी की थी। रैकी करने के बाद कई बार कैश लूटने के लिए आये थे, परन्तु आपस मे तालमेल न होने के कारण लूट की घटना को अन्जाम नहीं दे पाये थे। 

Back to top button