कांवड़ खंडित होने पर बवाल, एसपी सिटी की गाड़ी में तोड़फोड़

आक्रोशित कांवड़ियों ने हाईवे जाम कर पुलिस चौकी पर की तोड़फोड़, मामला शांत करने में पुलिस के पसीने छूटे

भास्कर समाचार सेवा
मेरठ/कंकरखेड़ा। नेशनल हाईवे 58 पर बाइक सवार विशेष समुदाय के दो युवकों द्वारा कांवड़ खंडित करने पर बवाल हो गया। एक युवक को कांवड़ियों ने मौके पर पकड़कर जमकर पिटाई की, जबकि दूसरा आरोपी मौके से फरार हो गया। आक्रोशित कावड़ियों ने पुलिस चौकी में तोड़फोड़ करते हुए वाहन भी तोड़ डालें। हाईवे पर घंटों बवाल रहा। सूचना पर एसएसपी, जिला अधिकारी और कई थानों की पुलिस फोर्स सहित पैरामिलिट्री फोर्स भी मौके पर पहुंचे। कंकरखेड़ा व्यापार संघ, भाजपा की टीम ने पुलिस के साथ नियंत्रण करने में घंटों प्रयास किया। काफी देर बाद भाजपाइयों के सहयोग से हालात पर काबू पा लिया गया। प्रशासन की टीम कावड़ियों को साथ लेकर दोबारा जल लेने हरिद्वार के लिए रवाना हो गई थी। वही एसपी सिटी की गाड़ी में जब आरोपी को चौकी से निकलकर ले जाने लगे तो कावड़ियों में आक्रोश भर गया। उन्होंने एसपी सिटी की गाड़ी में तोड़फोड़ कर दी। चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने किसी तरह भागकर जान बचाई। काफी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया गया।

राजस्थान के मेवात सीकरी निवासी मोंटी कक्कड़, सोनू पुनियानी, सागर पुनियानी, कपिल पुनियानी और मोहित कक्कड़ सहित 40 सदस्य रथ कावड़ लेकर हरिद्वार से राजस्थान जा रहे थे। इनके साथ 10 अन्य सदस्य वाहन के साथ थे। इस रथ यात्रा के साथ टोटल 50 सदस्य थे। शनिवार को यह सभी कंकरखेड़ा क्षेत्र में नेशनल हाईवे पर कंकरखेड़ा व्यापार संघ द्वारा लगाए गए शिविर में खाना खाने के लिए रुके। मोंटी कक्कड़ का कहना है कि एक साथी रथ कावड़ के पास रुक गया। अन्य सभी खाना खाने के लिए शिविर में चले गए। आरोप है इसी दौरान बाइक पर सवार होकर दो युवक रथ के पास पहुंचे और कावड़ पर थूककर अपवित्र कर दिया। इस पर कांवरियों में आक्रोश भर गया। उन्होंने एक आरोपी को दबोच लिया, जबकि दूसरा बाइक पर सवार होकर भाग निकला। इसके बाद कांवड़ियों ने बवाल कर दिया। मौके पर तैनात पुलिस कर्मियों ने आरोपी युवक को पकड़कर चौकी पर ले गए। इसके बाद कावड़िया आरोपी को पुलिस से छुड़ाने का प्रयास करने लगे लेकिन, एक पुलिसकर्मी और आरोपीपी युवक को लेकर चौकी में घुस गया और अंदर से कुंडी लगा ली। इसके बाद कांवरियों ने जमकर बवाल शुरू कर दिया। पुलिस चौकी पर तोड़फोड़ कर दी। वाहन तोड़ दिए और नेशनल हाईवे पर कुर्सी मेज लगाकर जाम लगा दिया। सूचना मिलने पर कई थानों का फोर्स मौके पर पहुंचे और कावड़ियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन, कावड़िया इस बात से आक्रोशित हो गए कि काफी कठिन परिश्रम के बाद वह गंगा से हरिद्वार से जल लेकर यहां आए थे और विशेष समुदाय के युवक ने कावड़ पर थूककर अपवित्र कर दिया। पुलिस कावड़ियों को समझाने में जुटी रही और कावड़िया बम बम भोले के जयकारे लगाते हुए हंगामा करते रहे।

इसके बाद भाजपा एमएलसी धर्मेंद्र भारद्वाज मौके पर पहुंचे और कावड़ियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन, बात नहीं बनी
उधर कंकरखेड़ा व्यापार संघ अध्यक्ष नीरज मित्तल, पार्षद राजेश खन्ना, पंकज चौधरी, भाजपा नेता गणेश अग्रवाल, विनय चौधरी, ठाकुर ओपी सिंह, निशांत गर्ग सहित काफी भाजपाई जो हाईवे किनारे शिविर लगाए हुए थे, घटनास्थल पर पहुंच गए। उन्होंने का कावड़ियों को समझा-बुझाकर शांत करने का प्रयास किया। कई घंटों की मशक्कत के बाद कावड़िया कुछ शांत हुए।

फिर से उग्र हो गए कावड़िया, एसपी सिटी की गाड़ी तोड़ी
जिस समय पुलिसकर्मी 4 कांवड़ियों को लेकर जल लेने के लिए हरिद्वार गए थे। उस दौरान मामला शांत था और कावड़िया आराम से शिविर में बैठे थे। करीब 3 बजे एसपी सिटी की गाड़ी से चौकी में बंद आरोपी युवक को निकालकर ले जाने का प्रयास करने लगे। इसी दौरान कावड़िया फिर से उग्र हो गए और बवाल करते हुए एसपी सिटी की गाड़ी में तोड़फोड़ कर दी। पुलिस कर्मी आरोपी युवक को निकाल कर ले जाने में तो कामयाब रहे। लेकिन चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों को जाम बचाना भारी पड़ा। उन्हें स्कूल में घुसकर पिछले गेट से भागना पड़ा। इस दौरान बजरंग दल की एक महिला कार्यकर्ता द्वारा कांवरियों को उकसाए जाने का मामला सामने आया है। पुलिस का कहना है कि आरोपी महिला के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

चौकी इंचार्ज का मुस्लिम होना गुजरा नागवार
घटना के बाद जब पुलिस ने आरोपी मुस्लिम युवक को दबोच लिया। तो पुलिस आरोपी को थाने ले जाने के बजाय हाईवे के किनारे चौकी पर ही ले गए। सभी कावड़ियों ने देख लिया था कि आरोपी युवक को चौकी में रखा गया है। पुलिस की यही गलती भारी पड़ गई। यदि पुलिस आरोपी युवक को तत्काल निकालकर थाने की तरफ ले जाती तो बवाल कम होने की आशंका थी। लेकिन कावड़ियों को पता था कि आरोपी इसी चौकी में घुसा है। जिस कारण सभी कावड़िया आरोपी को चौकी से बाहर निकालने के लिए कह रहे थे। दूसरी ओर चौकी इंचार्ज असलम हुसैन हैं। जिससे कावड़ियों की नजरों में यही बात आ रही थी कि मुस्लिम चौकी इंचार्ज होने के कारण आरोपी का पक्ष लिया जा रहा है। जबकि पुलिस आरोपी के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने का आश्वासन दे रही थी। लेकिन इस बात को कावड़िया नहीं समझ पा रहे थे।

एसपी सिटी और जिला अधिकारी मौके पर पहुंचे
नेशनल हाईवे पर कावड़ियों द्वारा जाम लगाकर घंटों बवाल होता रहा अधिकारियों से जब मामला शांत नहीं हुआ तब मेरठ एसएसपी और जिलाधिकारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे कांवरियों को समझा-बुझाकर शांत किया।

पुलिस के व्यवहार से बेकाबू हो रहे थे कावड़िया
कांवरियों को शांत करने के लिए पुलिस बार बार आग्रह कर रही थी लेकिन न जाने पुलिस के व्यवहार से कांवरियों को गुस्सा आ रहा था और भोलेनाथ के जयकारे लगाते रहे नजदीक में कांवड़ शिविर चला रहे भक्तों ने कांवरियों को समझा-बुझाकर घंटों की मशक्कत के बाद किसी तरह शांत किया।

Back to top button