सीतापुर मनरेगा मजदूरों ने किया विकास भवन का घेराव

सीतापुर। मजदूरों को मनरेगा में आ रही दिक्कतों पर की गई शिकायतों पर जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो आज रोषित मजदूर सड़कों पर उतर आए। भारी संख्या में मजदूर शुक्रवार को विकास भवन पहुंचे जहां उन्होंने विकास भवन का घेराव कर प्रदर्शन किया। रोषित मजदूरों का रूप देख अधिकारी घबरा उठे। उन्होंने पहले मान मनौव्वल की लेकिन जब बात नहीं बनी तो वार्ता के लिए रिचा सिंह आदि को बुलाया।

मजदूरों का रोषित रूप देख घबराए अधिकारी

मजदूरों का कहना था कि संगतिन किसान मजदूर संगठन से जुड़े ब्लाक मिश्रिख, पिसावां, महोली, एलिया, मछरेहटा, गोंदलामउ, हरगांव तथा खैराबाद के मजदूरों को मनरेगा में आ रही विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इन समस्याओं को ब्लाक से जिला तक कई बार सूचित करने के बावजूद अभी तक कोई समाधान नहीं हुआ है। अनेकों प्रकरण सामने आने तथा उनकी जानकारी अधिकारियों को दिए जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है। यह समस्या बड़े पैमाने पर कई ब्लाक में देखने में आ रही है। ऐसा प्रतीत होता है कि ब्लाक से जिला तक कोई कुछ लोगों के संरक्षण में यह काम हो रहा है। सभी ब्लाक में नये जॉबकार्ड बनाने और पुराने जॉबकार्ड से अन्य परिवार को अलग करने के ढेरों मामलों पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई।

मान मनौव्वल से नहीं बात तो की वार्ता

ऐसे बहुत सारे मजदूर परिवार हैं जिनका मनरेगा के शुरुआती दौर में जॉबकार्ड बना उस वक्त जो भाई या बेटा एक साथ थे उनका परिवार अलग हो चुका है। जॉबकार्ड पर अन्य परिवारों का नाम भी ब्लाक द्वारा दर्ज करने के मामले भी खूब है। न तो जॉबकार्ड अलग किये जा रहे हैं और न ही नये जॉबकार्ड सही तरीके से बनाये जा रहे हैं।

ऐसी अनेकों समस्याओं से जूझते हुए सभी मजदूरों ने मांग की कि मनरेगा में उपरोक्त समस्याएं कम से कम हो इसके लिए एक मजबूत प्रक्रिया बनायी जाये और उसकी समयबद्ध मॉनिटरिंग हो। इस पत्र के साथ संलग्न ब्लाकवार समस्याओं के निस्तारण के लिए ब्लाकवार तिथी निर्धारित कर अतिशीघ्र समाधान कराया जाय। बकाया मजदूरी वाले मामलों को प्राथमिकता के आधार पर एक सप्ताह में समाधान किया जाय।

Back to top button