50 बीघा जमीन चढ़ी कटान की भेंट : दो विद्यालयो व ग्यारा सौ रेती बाजार के अस्तित्व पर मंडराया खतरा

फ़ख़रपुर/बहराइच। फखरपुर ब्लॉक के मंझारा तौकली 11सौ रेती भिर्गु पुरवा चंदेव पुरवा 300 रेती रोहित पुरवा अनुसूचित बस्ती आदि गांवो में घागरा ने फिर तबाही मचाना शुरू कर दिया है।मंझारा तौकली की प्रमुख बाजार 11सौ रेती कटान के मुहाने पर आ गया है वहीं पर बने 2 प्राथमिक विद्यालय जो घाघरा की कटान से महज 50 मीटर की दूरी पर आ गए है।जल्द वह भी कटान की चपेट में आ जाएँगे।जिस तरह से बीते 5 वर्षों से लगातार घाघरा तबाही मचा रही हैं उससे तो लगता है 1 सप्ताह में स्कूलों का व ग्यारह सौ रेती बाजार हरिजन बस्ती का नामोनिशान मिटा देगी घाघरा बीते 5 वर्षों में लगभग ढाई सौ घर और एक दर्जन गांव को निगल चुकी है घाघरा ग्रामीणों में कटान कि दहशत व्याप्त है।

घरों को तोड़ते हुए सुरक्षित जगहो पर ग्रामीण पलायन करने लगे हैं। ग्रामीण इंदल निषाद कृष्ण मुरारी अशोक कुमार सुरेश निषाद पंकज गोविंद आदि ने बताया कटान से बचाने की मांग को लेकर प्रशासन द्वारा अब तक कोई उचित कदम नहीं उठाया गया है जिससे ग्रामीण आक्रोशित भी हैं और अपने किस्मत पर रो रहे हैं हर बार यह घाघरा हजारों लोगों को सड़क पर ले आती है।और प्रसासन की तरफ से कोई सुनवाई नही हो रही है।तहसीलदार केसरगंज ने बताया राजस्व टीम लगाई गई है सर्वेक्षण चल रहा है। जिनका खेत कट रहा है उन्हें 37हजार 5सौ रुपये प्रति हेक्टियर व जिनके पक्के घर कट रहे है उन्हें 95हजार रुपयों का मुवावजा दिलाया जाएगा और उचित स्थानों पर बसाने की भी परिक्रिया की जा रही है।

Back to top button