उतार फेंकी विद्युत केंद्र पर लगी योगी मोदी की तस्वीर

  • हंगामा शुरू होने के बाद दोबारा लगाई गई दोनों फोटो
  • मामले की जांच को पहुंचे एसई, पत्रकारों से बनाई दूरी

भास्कर समाचार सेवा

कोसीकलां। मथुरा में अभी प्रधानमंत्री मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी की तस्वीरों का विवाद थमा भी नहीं था कि कोसी विद्युत केंद्र पर ठीक उसी तरह का मामला सामने आया। जहां लाइमैंनों ने प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री की केंद्र में लगी तस्वीरों को उतार फेंका। मामला गर्माया तो विभागीय उच्चाधिकारियों में खलबली मच गई । दोनों तस्वीरों को दोबारा लगाया गया और आरोपित एक कर्मचारी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है।
दरअसल मामला कोसी-नंदगांव रोड स्थिति 133 केवी विद्युत केंद्र का है। यहां केंद्र के कंट्रोल रूम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी की फोटो लगी थी। आरोप है कि यहां से कर्मचारियों ने दोनों तस्वीरों को हटा दिया। जब लोगों ने वहां दीवार पर लगी तस्वीरों को नहीं देखा तो पूछताछ एवं खोजबीन शुरू कर दी। भाजपा कार्यकर्ता लेखन शर्मा का आरोप है कि उन्होंने दोनों तस्वीरों को कंट्रोल रूम के ही एक कोने में पडे देखा था। इसको लेकर उसने हंगामा काटा और विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। जिसके बाद इस मामले में हचचल शुरू हुई। लेखन का आरोप था कि तस्वीर को विभाग में कार्यरत कर्मचारियों ने हटाया है। इसमें जेई की भी मिलीभगत है। मामले को लेकर हंगामा बढा तो गोपनीयता से मामले की जांच के लिए एसई प्रभाकर पांडेय कोसीकलां पहुंचे। हालांकि वे मीडिया से पूरी तरह से बचत रहे और बिना कुछ बताए चले गए। उन्होंने फोन पर भी इस बावत वार्ता नहीं की। हालांकि उन्होंने एक लाइन मैन के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की है। हालांकि एक्सईएन एनपी सिंह बताया कि कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत आई थी। उन्होंने गजब तरीके का तर्क देते हुए बताया कि सफाई के दौरान तस्वीरें हटाई गई थी, ताकि उन पर जाले न गिरे। हालांकि फरीद के खिलाफ कार्रवाई की बात को स्वीकारा लेकिन यह कार्रवाई किस आरोप में की गई यह उन्होंने जानकारी होने से इंकार कर दिया । एसडीओ सर्वज्ञ श्रीवास्तव ने बताया कि लाइनमैन फरीद के खिलाफ काम न करने को लेकर कार्रवाई की गई है।

Back to top button