किसी मुसीबत से कम नहीं कीचड़ भरी सड़क पर चलना, खुद देखें सुलतानपुर का हाल


– कई गांव के लोगों का सड़क से है आना जाना

कूरेभार-सुलतानपुर। बरसात का मौसम आते ही दर्जन भर गांव के लोगों को रोज इसी कीचड़ भरी सड़क से गुजरना पड़ता हैै। जो किसी जोखिम से कम नहीं है। आवागमन पूरी तरह बाधित हो जाता है। सड़को पर कीचड़ में फंस कर राहगीर गिरते पड़ते किसी तरह अपने घर पहुंचते हैं। बाइक और बाहन की बात तो दूर ऐसी सड़कों पर तो बरसात के मौसम में पैदल चलना भी दूभर हो जाता है। यही नहीं इस रोड पर प्राथमिक विद्यालय से लेकर इंटरमीडिएट व महा विद्यालय तक मौजूद है। विद्यालय खुलने पर नौनिहालों तथा छात्र-छात्राओं को इसी सड़क से आये दिन विद्यालय आना जाना होता है। कभी कभी तो देखा जाता है, पढ़ने वाले छात्र-‘छात्राएं साइकिल समेत कीचड़ में सन कर चोटिल भी हो जाते हैं। लेकिन शासन-प्रशासन इस समस्या से अनजान बना हुआ है।
बताते चलें कि कूरेभार ब्लाक के पुरखीपुर हथिगों मार्ग जो बार्डर की सड़क होने के नाते सुलतानपुर और अयोध्या जिले को जोड़ती है, जिसकी कुल लंबाई तीन किलोमीटर है।ं यह सड़क अभी आठ वर्ष पहले विधायक अनूप सन्डा ने अपने कोटे से बनवाया था। दो साल पहले से पूर्वांचल एक्सप्रेस वे में मिट्टी ढुलाई कर रहे डंफरों ने सड़क को पूरी तरह जमींदोज कर दिया और पक्की सड़क का नामो निशान मिट गया। गांव के पूर्व प्रधान शिवाकांत तिवारी ने ग्रामीणों को साथ लेकर पीडब्लूडी कार्यालय तथा तत्कालीन विधायक सूर्यभान सिंह के पास इसकी कई बार लिखित शिकायत भी की थी। विधायक ने आश्वासन भी दिया था कि इस सड़क को पीडब्लूडी के द्वारा जल्द से जल्द बनवाया जाएगा। लेकिन तीसरी वरसात आने के बावजूद भी सड़क ज्यों की त्यों पड़ी है। जब कि इस सड़क से दर्जन भर गांवों के लोगों का आना जाना लगा रहता है। जिससे शासन प्रसाशन के प्रति ग्रामीणों में काफी आक्रोश व्याप्त है।

Back to top button