Weather Alert : उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बारिश का सिलसिला जारी, उत्तराखंड समेत कई राज्यों में रेड अलर्ट

देहरादून : देश के कई हिस्सों में जमकर बारिश हो रही है. जिससे आम जन जीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. पहाड़ से लेकर मैदान तक झमाझम हो रही है. लगातार हो रही बारिश से मैदानों में जहां लोगों को गर्मी से राहत मिली है, वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में सर्द का अहसास होने लगा है. वहीं आमतौर पर इन दिनों में बारिश नहीं होती है. लेकिन पिछले काफी समय से मौसम का मिजाज बदल रहा है. नतीजा यह है कि उत्तर से दक्षिण तक देश के कई हिस्सों में बारिश हो रही है.वहीं मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर-पश्चिम भारत में 19 अक्टूबर तक बारिश का दौर जारी रह सकता हैं. वहीं, केरल समेत दक्षिण भारतीय राज्यों में जमकर बारिश हुई. मौसम विभाग के अनुसार दक्षिणी राज्यों में बारिश का एक और दौर 20 अक्टूबर के बाद से शुरू हो सकता है.

इन राज्यों में भारी बारिश की भविष्यवाणी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अपने नवीनतम बुलेटिन में न केवल केरल के लिए बल्कि मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख सहित 16 अतिरिक्त राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में भारी बारिश की भविष्यवाणी की है.

उत्तराखंड में पिछले दो दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश से आम जनजीवन अस्त व्यस्त है. आलम यह है कि पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बारिश के चलते भूस्खलन का सिलसिला जारी है. बारिश और भूस्खलन से चार लोगों की मौत हुई है. प्रदेश की स्थितियों का जायजा लेने के लिए सूबे के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी आज सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे. उन्होंने अधिकारियों से प्रदेश के हालातों की जानकारी ली.  
उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बारिश का सिलसिला जारी

मौसम विभाग ने बीते दिन प्रदेश में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया था. जिसके तहत  आज 19 अक्टूबर  को प्रदेश के तमाम हिस्सों में भारी से भारी बारिश का रेड अलर्ट की चेतावनी दी है. जिसका असर प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है. प्रदेश के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बारिश का सिलसिला जारी है. मैदानी क्षेत्रों में कमोवेश ऐसे ही हालात हैं. प्रदेश के तमाम क्षेत्रों में लगातार हो रही भारी बारिश से आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. सरकारी मशीनरी पूरी तरह से आपदा जैसे हालातों से निपटने की तैयारियों में जुट गई है. 

प्रदेश में स्थितियों का जायजा लेने आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे सीएम धामी ने बताया कि इस आफत की बारिश के चलते पौड़ी जिले में 3 लोगों की मौत हुई है. 2 लोग घायल हो गये हैं. जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. साथ ही भारी बारिश के चलते चंपावत के एक गांव में छत गिर जाने से महिला की मौत हो गई है. बाकी प्रदेश में स्थितियां अभी सामान्य हैं. वे खुद प्रदेश की स्थितियों पर नजर बनाए हुए हैं. सीएम धामी ने कहा चार धाम यात्रा पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है. कल देर शाम तक केदारनाथ धाम में करीब 6000 श्रद्धालु मौजूद थे. जिसमें से 4000 श्रद्धालु नीचे आ गए हैं.मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में बारिश

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) भोपाल कार्यालय के अनुसार पूरे राज्य में लगभग 24 घंटे तक बारिश होती रही. सोमवार सुबह 8.30 बजे बारिश बंद हुई. अगले कुछ दिनों में और बारिश होने की संभावना है.

कश्मीर में ताजा हिमपात

राज्य के ऊपरी इलाकों में ताजा हिमपात हुआ है, जबकि मैदानी इलाकों में रविवा को हुई बारिश से तापमान में गिरावट आई है. मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि जेड-गली, राजदान टॉप, पीर की गली, साधना टॉप और जोजिला सहित कश्मीर के कुछ ऊंचाई वाले इलाकों में ताजा हल्की बर्फबारी हुई.

तमिलनाडु में तीन मौत

उत्तर पश्चिम भारत, दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत और पूर्वी भारत में भी तेज बारिश की सूचना है. तमिलनाडु में भी भारी बारिश के कारण तीन लोगों की मौत हुई, जिसमें नमक्कल जिले में दो और कन्याकुमारी में एक शव बरामद हुआ.

अफगानिस्तान पर पश्चिमी विक्षोभ

अफगानिस्तान के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ 17 और 19 अक्टूबर के बीच उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश के साथ अधिकांश क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश का कारण बनेगा. आईएमडी ने 17 और 18 अक्टूबर के लिए हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के लिए समान मौसम अलर्ट जारी किया है.

Back to top button
E-Paper